CAA के विरोध में सुलगा उत्तर प्रदेश, लखनऊ में 1 प्रदर्शनकारी की मौत

मिली जानकारी के मुताबिक मारे गए शख्स का नाम मोहम्मद वकील है. जिसके पेट में गोली लगी थी, जिसका इलाज लखनऊ के ट्रामा सेंटर में चल रहा था.  

CAA के विरोध में सुलगा उत्तर प्रदेश, लखनऊ में 1 प्रदर्शनकारी की मौत
मिली जानकारी के मुताबिक मारे गए शख्स का नाम मोहम्मद वकील है.

लखनऊ: गुरुवार को उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की राजधानी लखनऊ (Lucknow) में CAA (Citizen Amendment Bill) के विरोध में हिंसक प्रदर्शन देखने को मिला. प्रदर्शनकारियों ने पुलिस चौकियों पर हमला किया, साथ में ही कई जगहों पर आगजनी भी की. इसी बीच एक प्रदर्शनकारी की मौत की खबर सामने आई है. मिली जानकारी के मुताबिक मारे गए शख्स का नाम मोहम्मद वकील है. जिसके पेट में गोली लगी थी, जिसका इलाज लखनऊ के ट्रामा सेंटर में चल रहा था.

बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून (CAA) का विरोध अब हिंसात्मक हो गया है. राजधानी लखनऊ से लेकर संभल तक जमकर हंगामा हुआ. पूरे उत्तर प्रदेश में धारा 144 लागू है, बावजूद इसके प्रदर्शनकारियों ने जमकर बवाल मचाया. विरोध की आड़ में हिंसा पर उतारू प्रदर्शनकारियों ने कई जगहों पर आगजनी की. प्रदर्शनकारियों ने मोटरसाइकल, कार, बस में आग लगा दी. हालात इतने ज्यादा बिगड़ गए कि पुलिस को रबर बुलेट का इस्तेमाल करना पड़ा. आंसू गैस के गोल दागने पड़े. इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने मीडिया पर भी हमला कर दिया. मीडिया की कई गाड़ियों में तोड़फोड़ भी की गई और आग के हवाले कर दिया गया.

राजधानी लखनऊ से सबसे ज्यादा हिंसा की तस्वीरें सामने आईं. यहां खदरा स्थित हसनगंज थाने की चौकी में जमकर तोड़फोड़ की गई. चौकी के अंदर रखा सारा सामान बाहर फेंक दिया गया. वहीं बाहर खड़ी कई मोटरसाइकिलों में आग लगा दी गई, साथ ही पुलिस के बैरिकेंडिंग तोड़ दी गई.
लखनऊ के हजरतगंज में भी प्रदर्शनकारियों ने जमकर हंगामा किया. यहां भी भीड़ ने पुलिस चौकी में आग लगा दी. शहर में कई जगहों पर पुलिस पर पथराव हुआ, कई गाड़ियों में आग लगाई गई. हिंसक भीड़ ने मीडिया की ओबी वैन में भी आग लगा दी. जिसके बाद फायर ब्रिगेड को आग बुझाने के लिए बुलाना पड़ा. पुलिस को भी भीड़ पर काबू पाने के लिए आंसू गैस के गोले दागने पड़े. साथ ही लाउडस्पीकर से लोगों की समझाइश भी दी गई और शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील की गई. 

उधर, नागरिकता संशोधन कानून के नाम पर हो रही हिंसा की आग संभल तक पहुंच गई. यहां बेकाबू प्रदर्शनकारियों ने रोडवेज की एक बस में आग लगा दी. यहां भी विरोध के नाम पर हिंसा कर रही भीड़ ने पुलिस की कई गाड़ियों को निशाना बनाया और जमकर विरोध प्रदर्शन किया. इस दौरान भीड़ ने आम लोगों की गाड़ियों के शीशे भी तोड़ दिए. बस में आग लगाने और सड़क पर हिंसा करने पर  पुलिस ने 15 लोगों को हिरासत में भी लिया. एहतियात के तौर पर संभल में अगले आदेश तक इंटरनेट सेवा पर रोक लगा दी गई है. 

मऊ जिले में भी CAA के विरोध में एक बार फिर से प्रदर्शन शुरु हो गया है. मऊ में तीन दिन पहले भी प्रदर्शनकारियों ने एक थाने में आग लगा दी थी. जिसके बाद पुलिस ने कई लोगों को गिरफ्तार किया था. वहीं एक बार फिर नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में लोग सड़कों पर उतर आए. प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पत्थरबाजी की. जिसके बाद भारी संख्या में पुलिस फोर्स के साथ में पीएसी, आरएएफ की टुकड़ियां तैनात की गई. बता दें कि लगातार हो रहे इस बवाल और पत्थरबाजी को देखते हुए प्रशासन पहले से इंटरनेट बंद किए हुए है. वहीं शहर कोतवाली क्षेत्र की सभी दुकानों को बन्द कर किया गया है.
कुल मिलाकर उत्तर प्रदेश के कई जिलों में हिंसात्मक प्रदर्शन के बाद पुलिस प्रशासन चौकसी बनाए हुए. प्रशासन की तरफ से लगातार शांति व्यवस्था की अपील की जा रही है.