लखनऊ: कड़ाके की ठंड में सड़क पर सोने को मजबूर हैं लोग, कहां हैं प्रशासन के रैन बसेरे

लोग रातों को कड़ाके की ठंड में भी सड़कों और फुटपाथ पर सोने को मजबूर हैं. न ही उनके पास कंबल है, और न ही उन्हे प्रशासन द्वारा बनाए रैन बसेरों के बारे में कोई जानकारी है. 

लखनऊ: कड़ाके की ठंड में सड़क पर सोने को मजबूर हैं लोग, कहां हैं प्रशासन के रैन बसेरे
फाइल फोटो

लखनऊ: लखनऊ का पॉश इलाका कहे जाने वाले गोमती नगर के विभूति खंड में दृश्य भयभीत करने वाला है, जहां लोग रातों को कड़ाके की ठंड में भी सड़कों और फुटपाथ पर सोने को मजबूर हैं. न ही उनके पास कंबल है, और न ही उन्हे प्रशासन द्वारा बनाए रैन बसेरों के बारे में कोई जानकारी है. प्रशासन बार-बार यह कहता है कि ठंड को देखते हुए सभी तरह के इंतजाम कर लिए गए हैं, और शहर में रैन बसेरों की पर्याप्त मात्रा भी है, साथ ही प्रशासन गरीबों को कंबल बांटने के भी दावे करता है.  

बता दें, एक तरफ प्रशासन कंबल बांटने के दावे कर रहा है, वहीं दूसरी तरफ रिक्शा पर और सड़क पर सोते हुए लोगों के हालात कुछ और ही बता रहे हैं. पूछे जाने पर फुटपाथ पर सो रहे लोगों ने बताया कि न तो उन्हें रेन बसेरों के बारे में कोई खबर है और न ही उन्हें कभी कंबल बांटा गया है. जब गोमती नगर जैसे पॉश इलाके में ही रहने वाले कई मजदूर इन सुविधाओं से दूर हैं,  तो प्रशासन के द्वारा बार बार बताई जाने वाली तैयारी कितनी सही है वह यह तसवीरें साफ बयां कर रही हैं.