close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

प्रयागराज : कुंभ मेले की तैयारी में बन रही हेलीपोर्ट बिल्डिंग का हिस्सा गिरा

प्रयागराज में कुंभ मेले के दौरान आने वाले श्रद्धालुओं को किसी भी तरह की कोई परेशानी न हो इसके लिए प्रशासन द्वारा हेलिकाप्टर सुविधा देने के लिए हेलीपोर्ट का निर्माण किया जा रहा है. 

प्रयागराज : कुंभ मेले की तैयारी में बन रही हेलीपोर्ट बिल्डिंग का हिस्सा गिरा
फोटो साभार : ANI

प्रयागराज : 14 जनवरी से प्रय़ागराज में लगने वाले कुंभ मेले की तैयारी जोरो-शोरों पर हैं. इसी बीच बुधवार (10 जनवरी) देर रात कुंभ मेले की तैयारी को लेकर बनाया जा रहा हेलीपोर्ट बिल्डिंग का एक हिस्सा गिर गया. देर रात हुए इस हादसे में दो मजदूरों के दबे होने की जानकारी मिल रही है. प्रशासन के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं. राहत और बचाव कार्य जारी है.

एक अधिकारी ने हादसे की पूरी जानकारी देते हुए बताया कि हेलीपोर्ट का हिस्सा गिरने की खबर मिलते ही मौके पर पहुंचे बचाव टीम ने दोनों मजदूरों को बाहर निकाल लिया है. दोनों को नजदीक के अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां पर उनका इलाज चल रहा है.

श्रद्धालुओं के लिए बनाया जा रहा था हेलीपोर्ट
दरअसल, प्रयागराज में कुंभ मेले के दौरान आने वाले श्रद्धालुओं को किसी भी तरह की कोई परेशानी न हो इसके लिए प्रशासन द्वारा हेलिकाप्टर सुविधा देने के लिए हेलीपोर्ट का निर्माण किया जा रहा है. इसके अलावा इस हेलीपोर्ट पर वीवीआईपी गेस्ट के हेलिकाप्टरों की पार्किंग भी जानी है.

इंतजामों में लगी सरकार 
बता दें कि इस बार कुंभ में आने वाले श्रद्धालुओं को किसी भी तरह की परेशानी न हो इसके लिए प्रशासन द्वारा कई सारी तैयारी की जा रही है. सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ खुद इस कुंभ मेले की तैयारियों का जायजा कई बार ले चुके हैं. हर बार की इस बार भी कुंभ में कई प्रदेशों की नामी हस्तियों के साथ कई देशों के गणमान्य लोग भी मौजूद रहेंगे.

वाराणसी और प्रयागराज के बीच एयरबोट सेवा 
सरकार कुंभ मेले के लिए 26 जनवरी से वाराणसी और प्रयागराज के बीच एयरबोट सेवा आरंभ करेगी. केंद्रीय सड़क परिवहन एवं जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी ने बुधवार को इसकी जानकारी दी. 

गंगा से जुड़े शहरों में ठोस अपशिष्ट पर निगम आयुक्तों की कार्यशाला को संबोधित करते हुए गडकरी ने कहा, " यह रूस की तकनीक है. एयरबोट में एक वाहन का इंजन लगा होगा जो एक बार में 16 लोगों को ले जा सकेगी. यह एयरबोट 80 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से चल सकेगी. "