close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

8 घंटे में हैंडप्रिंट पेंटिंग बनाकर प्रयागराज कुंभ में बनाया गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड

हस्तलिपि चित्रकारी का कार्यक्रम शुक्रवार को सुबह 10.00 बजे शुरू किया गया तथा शाम लगभग 06.00 बजे तक उसमें लगातर पेंटिग वाल में विभिन्न स्कूलों के छात्र एवं छात्राओं तथा अनेक संस्थाओं के लोगों ने भाग लिया. 

8 घंटे में हैंडप्रिंट पेंटिंग बनाकर प्रयागराज कुंभ में बनाया गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड
हस्तलिपि चित्रकारी सात हजार से अधिक लोगों ने हिस्सा लिया. (फोटो साभार- एएनआई)

प्रयागराज: कुंभ मेले को भव्य और दिव्य बनाने के लिए नगर में ‘पेंट माई सिटी’ परियोजना के तहत की गई चित्रकारी को विश्व पटल पर प्रदर्शित करने के वास्ते गंगा पंडाल में हस्तलिपि चित्रकारी की गई, जिसमें सात हजार से अधिक लोगों ने हिस्सा लिया और इस तरह से हस्तलिपि चित्रकारी में भी प्रयागराज कुंभ ने विश्व रिकॉर्ड बनाया.

हस्तलिपि चित्रकारी का कार्यक्रम शुक्रवार को सुबह 10.00 बजे शुरू किया गया तथा शाम लगभग 06.00 बजे तक उसमें लगातर पेंटिग वाल में विभिन्न स्कूलों के छात्र एवं छात्राओं तथा अनेक संस्थाओं के लोगों ने भाग लिया. अपर जिलाधिकारी (कुंभ मेला) डी. त्रिगुणायत ने बताया कि अपराह्र तीन बजे ही सिओल के 4675 लोगों के चित्रकारी के पूर्व रिकार्ड को पीछे छोड़ दिया गया. इस कार्यक्रम की पूरी निगरानी गिनीज बुक रिकार्ड के निर्णायक मण्डल के प्रमुख ऋषिनाथ ने की.

उन्होंने बताया कि इस हस्तलिपि चित्रकारी में समाज के हर वर्ग ने बढ़चढ़ कर भाग लिया, जिसमें मुख्य रूप से विदेशी पर्यटक, सुरक्षा बलों के जवान, स्वच्छाग्रही, आमजन, छोटे बच्चे तथा वृद्धजनों ने भी बड़े उत्साह के साथ अपने हाथों की छाप पेंटिग वाल पर लगाया. चित्रकारी का नया विश्व रिकार्ड बनाए जाने पर कार्यक्रम में उपस्थित मण्डलायुक्त डॉ. आशीष कुमार गोयल, एडीजी एस एन साबत, मेलाधिकारी विजय किरण आनन्द, डीआईजी कुम्भ के.पी. सिंह ने उपस्थित लोगों को बधाई दी.

 

उल्लेखनीय है कि ‘पेंट माई सिटी’ के अन्तर्गत देशभर से आये चित्रकारों ने अपनी कला का प्रदर्शन करते हुए शहर की दीवारों को अपनी चित्रकारी से आकर्षक रूप दिया है, जिसे कुम्भ में आने वाले श्रद्धालुओं एवं पर्यटकों के द्वारा सराहा भी जा रहा है. ‘पेंट माई सिटी’ के अन्तर्गत शहर की लगभग 20 लाख वर्ग फुट की दीवारों पर चित्रकारी की गयी है. इन दीवारों में मुख्य रूप से सरकारी दीवारों, सेतुओं, चौराहों, रेलवे स्टेशनों, बस स्टेशनों आदि स्थलों की दीवारों पर चित्रकारी की गयी है.