close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

आय से अधिक संपत्ति मामला में सेवानिवृत्त DSP हर्षवर्धन सिंह के खिलाफ FIR

भ्रष्टाचार निवारण संगठन मेरठ में तैनात इंस्पेक्टर अरविद कुमार की तरफ से कोतवाली नोएडा के सेक्टर-49 में ये एफआईआर दर्ज कराई गई है.  

आय से अधिक संपत्ति मामला में सेवानिवृत्त DSP हर्षवर्धन सिंह के खिलाफ FIR
सेवानिवृत्त पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) हर्षवर्धन सिंह भदौरिया की फाइल फोटो.

नोएडा: नोएडा प्राधिकरण में तैनात रह चुके सेवानिवृत्त पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) हर्षवर्धन सिंह भदौरिया के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के मामले में एफआईआर दर्ज की गई है. भ्रष्टाचार निवारण संगठन मेरठ में तैनात इंस्पेक्टर अरविद कुमार की तरफ से कोतवाली नोएडा के सेक्टर-49 में ये एफआईआर दर्ज कराई गई है.  

शिकायत के मुताबिक, भ्रष्टाचार निवारण संगठन के पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर उनके द्वारा सेवानिवृत्त डीएसपी के संपत्ति की जांच की गई. जांच में पाया गया कि हर्षवर्धन सिंह भदौरिया की नियुक्ति 30 मई 1981 को यूपी पुलिस में सब इंस्पेक्टर के पद पर हुई थी. आरोप है कि उन्होंने जनवरी साल 2003 से लेकर 29 मई 2017 तक संपत्तियां अर्जित की है. 

इस दौरान हर्षवर्धन सिंह भदौरिया को वेतन, भत्ता, एरियर, बैंक आदि से शुद्ध ज्ञात आय की गणना की गई. इस अवधि में इनकी तरफ से पारिवारिक भरण पोषण, भू खण्ड आदि क्रय करने पर 10 करोड़ 63 लाख रुपये व्यय किया गया. आरोप है कि हर्षवर्धन सिंह भदौरिया द्वारा कुल खर्च की गई रकम आय के सापेक्ष नौ करोड़ 80 लाख 53 हजार रुपये (1178.09 फीसद) अधिक है. 

लाइव टीवी देखें

इसके अतिरिक्त भी आरोपित के पास संपत्तियां होने की संभावना है. आरोप है कि वैध ज्ञात आय से अधिक व्यय के संबंध में आरोपित सेवानिवृत्त डीएसपी हिसाब नहीं दे सका. मूलरूप से सिघावली यशवंत नगर इटावा निवासी आरोपित सेवानिवृत्त डीएसपी हर्षवर्धन सिंह भदौरिया नोएडा में डी-11 सेक्टर-47 स्थित मकान में रहते हैं. 

एफआईआर के मुताबिक, इन पर आरोप है कि ज्ञात आय के स्रोतों से अतिरिक्त संपत्तियां अर्जित कर के अवैध रूप से अपने को समर्थ किया है. शिकायत के आधार पर एफआईआर दर्ज हुई है और इस मामले की जांच भ्रष्टाचार निवारण संगठन मेरठ की तरफ से की जा रही है.