UP: फौज से निष्कासित जवान ने अपने परिवार के लिए मांगी इच्छा मृत्यु, जानें क्यों हुआ मजबूर

 दहेज उत्पीड़न मामले में फंसे फौज से निष्कासित जवान ने राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर अपने परिवार के लिए इच्छा मृत्यु की मांग की है. 

UP: फौज से निष्कासित जवान ने अपने परिवार के लिए मांगी इच्छा मृत्यु, जानें क्यों हुआ मजबूर
फौज से निष्कासित जवान ने मांगी इच्छा मृत्यु

कानपुर: उत्तर प्रदेश के कानपुर में दहेज उत्पीड़न मामले में फंसे फौज से निष्कासित जवान ने राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर अपने परिवार के लिए इच्छा मृत्यु की मांग की है. जाजमऊ इलाके में रहने वाले विजय सिंह का कहना है कि दहेज उत्पीड़न का मामला खत्म होने के बाद भी उसे दोबारा ज्वॉइन नहीं कराया जा रहा है. ऐसे में बच्चों को पालना काफी मुश्किल हो गया है. उनके पास मौत के सिवा कोई दूसरा चारा नहीं है.  

दरअसल, जाजमऊ के रहने वाले विजय सिंह 26वीं वाहिनी आईटीबीपी में पंजाब लुधियाना में सिपाही थे. पत्नी ने उनपर दहेज उत्पीड़न का मामला दर्ज कराया था. इस मामले के सामने आने के बाद अनुशासनहीनता के आरोप में उन्हें निष्कासित कर दिया गया था. विजय सिंह पर हुई कार्रवाई के बाद उनकी पत्नी ने भी हाइकोर्ट से मामला खत्म करवा दिया.

दहेज उत्पीड़न केस खत्म होने के बाद से विजय सिंह लगातार अपने अधिकारियों से पत्राचार कर रहे हैं.  इसके बावजूद उन्हें नौकरी में बहाल नहीं किया जा रहा है. विजय सिंह का कहना है कि विभाग की अनदेखी की वजह से उनका परिवार काफी दिक्कतों का सामना कर रहा है. आर्थिक तंगी के चलते बेटे का इलाज नहीं हो पाया और उसकी मौत हो गई.

फौज से निष्कासित विजय सिंह ने अब राष्ट्रपति,प्रधानमंत्री,गृहमंत्री को पत्र लिख कर 15 दिनों में बहाली किए जाने की मांग की है. उनका कहना है कि या तो मुझे न्याय दिया जाए, नहीं तो पूरे परिवार की इच्छा मृत्यु की इजाजत मिले.

ये वीडियो भी देखें: