अलीगढ़ पुलिस चली योगी की राह, इंस्पेक्टर जावेद खां ने दिया आवारा गौवंश को सहारा

अलीगढ़ एसएसपी अजय कुमार साहनी ने जिले के हर थाना इंचार्ज को सड़क पर घूम रहे आवारा गौवंश को पालने का आदेश जारी किया है. 

अलीगढ़ पुलिस चली योगी की राह, इंस्पेक्टर जावेद खां ने दिया आवारा गौवंश को सहारा
उत्तर प्रदेश के कई जिलों में कुछ दिनों पहले ग्रामीणों द्वारा आवारा गौवंशों को प्राथमिक स्कूलों और स्वास्थ्य केंद्रों में बंद करने की खबर सामने आई थी.

अलीगढ़, (खालिद मुस्तफा): उत्तर प्रदेश के कई जिलों में कुछ दिनों पहले ग्रामीणों द्वारा आवारा गौवंशों को प्राथमिक स्कूलों और स्वास्थ्य केंद्रों में बंद करने की खबर सामने आई थी. इस मामले के तूल पकड़ने के बाद प्रशासन ने ग्रामीणों को सरकार की ओर से बनाई जाने वाली गौशालाओं के जल्द निर्माण का आश्वासन दिया था. वहीं, अब सूबे के पुलिस विभाग ने भी इस मामले में एक अनोखी पहल की है. अलीगढ़ एसएसपी अजय कुमार साहनी ने जिले के हर थाना इंचार्ज को सड़क पर घूम रहे आवारा गौवंश को पालने का आदेश जारी किया है. 

समाज में जाएगा एक अच्छा संदेश- इंस्पेक्टर जावेद खां
इस आदेश के जारी होते ही अलीगढ़ की कोतवाली बन्नादेवी में गौ पालन शुरु भी हो चुका है. यह शुरुआत करने वाले इंस्पेक्टर हैं जावेद खां. दरअसल, एसएसपी साहनी का आदेश था कि जिले के सभी थाना अध्यक्ष, सीओ आदि पुलिस अधिकारी एक गाय और एक बछड़े का पालन करेंगे. आदेश आते ही सबसे पहले इंस्पेक्टर जावेद खां ने थाना बन्नादेवी की पुरानी बिल्डिंग में एक गाय और एक बछड़े का पालन शुरु कर दिया है. इंस्पेक्टर जावेद खां का कहना है कि इससे समाज में एक अच्छा संदेश जाएगा. उन्होंने कहा कि यहां से ट्रांसफर होने के बाद भी वह इस गाय और बछड़े को अपने साथ ही रखेंगे. उन्होंने कहा कि वह जहां भी जाएंगे इस गाय और बछड़े को साथ लेकर जाएंगे.

एसएसपी साहनी की हो रही है जमकर तारीफ
उनका मानना है कि इस पहल से लोगों के बीच जागरुकता आएगी और वह भी ऐसा करने के लिए प्रेरित होंगे. बता दें कि एसएसपी के इस सराहनीय काम की हर ओर तारीफ हो रही है. वहीं, हिंदू महासभा की राष्ट्रीय महासचिव डॉक्टर पूजा शकुन पांडे ने एसएसपी को इस काम के लिए सम्मानित करते हुए कहा कि इस तरह के फैसला लेकर उन्होंने एक बेहतरीन मिसाल पेश की है. अगर इस तरह के अधिकारी हो जाएं तो, जिस तरह की परेशानियां किसानों को हो रही हैं वो नहीं होंगी. उन्होंने कहा कि ग्रामीणों को भी गौवंशों को आवारा नहीं छोड़ देना चाहिए.