लखीमपुर खीरी हिंसा: एसआइटी ने जारी की संदिग्धों की तस्वीरें, सूचना देने वाले को मिलेगा इनाम
X

लखीमपुर खीरी हिंसा: एसआइटी ने जारी की संदिग्धों की तस्वीरें, सूचना देने वाले को मिलेगा इनाम

तीन अक्‍टूबर को हुई इस हिंसा में 4 किसानों समेत 8 लोगों की मौत हो गई थी. चार किसानों के अलावा अन्य मृतकों में दो भाजपा कार्यकर्ता, एक ड्राइवर और एक पत्रकार भी शामिल हैं.

लखीमपुर खीरी हिंसा: एसआइटी ने जारी की संदिग्धों की तस्वीरें, सूचना देने वाले को मिलेगा इनाम

लखीमपुर: उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा की जांच कर रही यूपी पुलिस की स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम ने कुछ संदिग्ध लोगों की तस्वीरें जारी की हैं. ये सभी ​तिकुनिया में हुई हिंसा में शामिल थे. एसआइटी ने लोगों से इन संदिग्धों के बारे में पुलिस को सूचना देने की अपील की है. सूचना देने वाले को पुलिस की ओर से उचित पुरस्कार दिया जाएगा.

स्पेशल इन्वेस्टिगिशन टीम ने 50 किसानों को नोटिस भेजा है. जांच अधिकारी के मुताबिक 15 किसान एसआइटी के सामने पेश हो चुके हैं. उनके बयान रिकॉर्ड किए गए हैं. तीन अक्‍टूबर को हुई इस हिंसा में 4 किसानों समेत 8 लोगों की मौत हो गई थी. चार किसानों के अलावा अन्य मृतकों में दो भाजपा कार्यकर्ता, एक ड्राइवर और एक पत्रकार भी शामिल हैं.

योगी सरकार ने अन्नदाताओं को दी बड़ी राहत, अब 100 क्विंटल तक बिना सत्यापन के धान बेच सकेंगे किसान 

किसान पक्ष की एफआइआर पर 10 ​अरेस्ट
इस मामले में केंद्रीय गृह राज्‍य मंत्री अजय कुमार मिश्रा 'टेनी' के बेटे आशीष मिश्रा समेत कई आरोपियों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है. कृषि कानूनों के विरोध में हो रहे आंदोलन के दौरान हुई हिंसा में 8 लोगों की मौतों का मामला भले अभी पूरी तरह नहीं सुलझा है, पर इस मामले में एसआइटी तेजी से जांच आगे बढ़ा रही है. इस मामले में दर्ज दो अलग-अलग मुकदमे दर्ज हैं. किसानों की ओर से दर्ज मुकदमे में अजय मिश्रा 'टेनी' के पुत्र आशीष मिश्रा समेत कुल 10 आरोपितों की गिरफ्तारी अब तक हो चुकी है.

दूसरे पक्ष की एफआइआर पर कार्रवाई तेज
बीते दो दिन से इस मामले में दर्ज दूसरे मुकदमे, जो भाजपा कार्यकर्ताओं की मौत से संबंधित है, उसकी भी जांच तेज हो गई है. सोमवार को एसआइटी ने मामले में 10 लोगों को बुलाकर उनसे पूछताछ करते हुए बयान दर्ज किए थे. मंगलवार को एसआइटी ने इंटरनेट मीडिया पर छह तस्वीरें जारी की हैं, जो तिकुनिया में 3 अक्टूबर को हुई हिंसा के दौरान की हैं. एसआइटी का कहना है कि इन फोटो में वे संदिग्ध हैं, जो घटना में शामिल थे. 

निम्न मोबाइल नंबरों पर सूचना दे सकते हैं
एसआइटी ने आम जनता से अपील की है कि फोटो देखकर संदिग्धों की पहचान कर उनका नाम, पता बताएं. ऐसा करने वालों की न सिर्फ पहचान गुप्त रखी जाएगी, बल्कि उन्हें इनाम भी दिया जाएगा. इन संदिग्धों की सूचना देने के लिए एसआइटी के अध्यक्ष का मोबाइल नंबर 9454400454, वरिष्ठ सदस्य एसआइटी का मोबाइल नंबर 9454400394, खीरी एएसपी और एसआइटी के सदस्य का मोबाइल नंबर 9454401072, सीओ व एसआइटी के सदस्य का मोबाइल नंबर 9454401486 व विवेचना अधिकारी एसआइटी का मोबाइल नंबर 9450782977 भी जारी किए गए हैं.

अजब-गजब: भदोही में जब बूंदों के साथ आसमान से बरसने लगीं मछलियां, पकड़ने के लिए दौड़ पड़े ग्रामीण!

सुमित जायसवाल 14 दिन की न्यायिक हिरासत में
इस बीच सोमवार को गिरफ्तार किए गए सुमित जायसवाल, नंदन सिंह, सत्य प्रकाश व शिशुपाल को एसआइटी रिमांड मजिस्ट्रेट के आवास पर मंगलवार शाम लेकर पहुंची. रिमांड मजिस्ट्रेट ने चारों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया. अभियोजन पक्ष की तरफ से पुलिस कस्टडी की मांग पर सुनवाई के लिए 21 अक्टूबर की तारीख तय की गयी है. 

महिंद्रा थार से उतरकर भागा था सुमित जायसवाल
सुमित जायसवाल इस घटना के मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा का करीबी है. उसका एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें वह महिंद्रा थार जीप से उतरकर भागते हुए दिखाई दे रहा था. इसी थार जीप से प्रदर्शनकारियों को कुचलने का आरोप केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा पर लगा है. एक अन्य वायरल वीडियो में महिंद्रा थार जीप किसानों पीछे से टक्कर मारती दिखाई दी थी.

WATCH LIVE TV

Trending news