VIDEO में देखें बर्फ की सफेद चादर में लिपटा केदारनाथ धाम, उत्तराखंड में जारी है बर्फबारी

उत्तराखंड में के सभी पहाड़ी इलाकों में काफी बर्फबारी हो रही है.

VIDEO में देखें बर्फ की सफेद चादर में लिपटा केदारनाथ धाम, उत्तराखंड में जारी है बर्फबारी
फोटो सौजन्य: ANI

नई दिल्ली: मैदानी इलाकों में ठंड और शीतलहर अपने जोरों पर है. इसके सबसे बड़ा कारण पहाड़ी क्षेत्रों में हो रही बर्फबारी है. उत्‍तराखंड स्थित केदार घाटी में शनिवार को जमकर बर्फबारी हुई. बर्फबारी के चलते चार धामों में से एक केदारनाथ मंदिर भी बर्फ की सफेद चादर से ढक गया. केदारनाथ में हुई बर्फबारी का एक वीडियो भी सामने आया है. इस वीडियो में केदारनाथ मंदिर को पूरी तरह से बर्फ से ढका हुआ दिखाया गया है. बता दें कि उत्तराखंड में के सभी पहाड़ी इलाकों में काफी बर्फबारी हो रही है.

 

वीडियो में केदारनाथ मंदिर के साथ ही आसपास की पूरी जगह बर्फ की मोटी चादर से ढकी नजर आ रही है. उत्तराखंड के चमोली जिले के औली में भी खूब बर्फबारी हुई है. हिमालय के पहाड़ों के बीच बसा केदारनाथ चार धाम में से एक है. ये जगह न सिर्फ धार्मिक लिहाज से बहुत अच्छी है, बल्कि मन और आत्मा को भी पवित्र कर जाती है. केदारनाथ धाम के दर्शन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कर चुके हैं. केदारनाथ धाम के कपाट चार धाम यात्रा के शुरू होने पर ही खोले जाते हैं. आमतौर पर हर साल चार धाम यात्रा अप्रैल या मई में शुरू होती है और अगस्‍त या अक्‍टूबर में संपन्‍न होती है. सर्दियों में भगवान केदारनाथ को उखीमठ ले जाया जाता है, वहां ही उनकी पूजा अर्चना सर्दियों के मौसम में चलती है.

बीते साल 2018 में केदारनाथ मंदिर की दीवार पर हर रात लेजर शो के जरिये धार्मिक कथाएं और भगवान से जुड़ी अन्‍य गाथाएं दर्शकों के लिए शुरु की गई थीं. इसमें लोगों को केदारनाथ और भगवान शिव से जुड़ी झलकियां रंगबिरंगी लाइटों के जरिये दिखाई जा रही थी. केंद्र और राज्‍य सरकार ने मिलकर भगवान शिव की नगरी और राज्‍य को दोबारा खूबसूरत बनाने की दिशा में पहल की है. अब यहां पर पुनर्निर्माण के सभी कार्य पूरे होने का दावा किया जा रहा है. 

  
बता दें कि साल 2013 में आई प्राकृतिक आपदा के कारण यहां भीषण तबाही मची थी. होटल, धर्मशाला समेत  लगभग सभी इमारतें पानी के सैलाब में बह गई थीं. लेकिन, भगवान शिव के मंदिर को कुछ भी नहीं हुआ था. इस आपदा में पूरे राज्‍य में पांच हजार से अधिक लोगों की मौत हुई थी. चार हजार से अधिक गांव उजड़ गए थे. यह ऋषिकेश से 223 किमी की दूरी पर स्थित है. यहां बस या टैक्‍सी से पहुंचा जा सकता है. समुद्र तल से 11,755 फीट की ऊंचाई पर स्थित केदारनाथ मंदिर भगवान शिव को समर्पित है. हिमालय की गोद में बसे इस तीर्थस्‍थल पर हर साल लाखों श्रद्धालु दर्शन को आते हैं.