विजिलेंस की रडार पर सपा विधायक, शुरू की आय से अधिक संपत्ति मामले की जांच

सपा विधायक मनोज पांडेय पर अपने इलाके के दलित परिवार की जमीन अवैध ढंग से हथियाने का भी आरोप है. जांच रिपोर्ट का परीक्षण करने के बाद शासन ने विजिलेंस को मनोज पांडेय के विरुद्ध खुली जांच करने का आदेश दे दिया है. 

विजिलेंस की रडार पर सपा विधायक, शुरू की आय से अधिक संपत्ति मामले की जांच
फाइल फोटो

लखनऊ:  समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के विधायक और पूर्व मंत्री मनोज कुमार पांडेय (Manoj Kumar Pandey) की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. शासन के आदेश पर उत्तर प्रदेश सतर्कता अधिष्ठान (विजिलेंस) ने उनके विरुद्ध आय से अधिक संपत्ति की शिकायतों की खुली जांच शुरू कर दी गई है. गोपनीय जांच में शिकायतें प्रथमदृष्ट्या सही पाए जाने के बाद खुली जांच के आदेश दिए गए हैं.

करोड़ों के हिसाब पर कुंडली मारकर बैठे हैं कई सरकारी विभाग, सीएजी की रिपोर्ट में खुलासा

अवैध ढंग से जमीन हथियाने का आरोप
सूत्रों की मानें तो मनोज पांडेय पर अपने इलाके के दलित परिवार की जमीन अवैध ढंग से हथियाने का भी आरोप है. शिकायतें मिलने पर शासन ने विजिलेंस के माध्यम से पहले गोपनीय जांच कराई जांच में आरोप प्रथमदृष्ट्या आरोप सही पाए गए. जांच रिपोर्ट का परीक्षण करने के बाद शासन ने विजिलेंस को मनोज पांडेय के विरुद्ध खुली जांच करने का आदेश दे दिया है. विजिलेंस अब शिकायतों से संबंधित साक्ष्य जुटाने के साथ ही मनोज पांडेय से पूछताछ भी कर सकती है. 

अजब-गजब फर्जीवाड़ा: भगवान को मृतक बता हड़प ली जमीन, जानिए कहां का है मामला

सपा कैबिनेट में मंत्री थे मनोज 
खुली जांच में दोषी पाए जाने पर उनके विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा सकती है. रायबरेली जिले की ऊंचाहार सीट से विधायक मनोज पांडेय सपा सरकार (Sp Government) में कैबिनेट मंत्री (Cabinet Minister) थे. जांच के रडार पर आने वाले वो सपा के तीसरे पूर्व मंत्री हैं. सपा के वरिष्ठ नेता आजम खां (Azam Khan) के विरुद्ध एसआईटी और गायत्री प्रजापित के खिलाफ विजिलेंस की जांच चल रही है.

हिस्ट्रीशीटर दिलीप मिश्रा के बेटे को बड़ा झटका, नहीं आ पाएगा जेल से बाहर, जानें क्यों हुई थी गिरफ्तारी

WATCH LIVE TV