close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महिला बाल विकास मंत्री रेखा आर्य ने अल्मोड़ा लोकसभा सीट से की दावेदारी

 इस बार लोकसभा चुनाव में टिकट की दावेदारी में कुछ नए चेहरे भी लोकसभा के चुनाव मैदान में दिखने लगे हैं. 

महिला बाल विकास मंत्री रेखा आर्य ने अल्मोड़ा लोकसभा सीट से की दावेदारी

देहरादून/कुलदीप नेगी: ​एक तरफ जहां प्रदेश बीजेपी लोकसभा चुनाव की तैयारी में जुट गई है तो वहीं दूसरी ओर पार्टी में टिकट के दावेदारों के बीच अंदरखाने दावेदारी की जंग भी छिड़ गई है. प्रदेश की महिला बाल विकास मंत्री रेखा आर्य ने अल्मोड़ा लोकसभा सीट से लोकसभा के लिए अपनी दावेदारी जताई है. रेखा आर्य अल्मोड़ा  सीट से खुद की दावेदारी को मजबूत मानती हैं. भाजपा में टिकट के दावेदारों के बीच दावेदारी की जंग शुरु हो गई है. इस बार लोकसभा चुनाव में टिकट की दावेदारी में कुछ नए चेहरे भी लोकसभा के चुनाव मैदान में दिखने लगे हैं.

राज्य की महिला सश्क्तिकरण एंव बाल विकास मंत्री रेखा आर्य अल्मोड़ा सीट से लोकसभा चुनाव लड़ना चाहती है. रेखा आर्य सोमेश्वर विधानसभा सीट से बीजेपी की विधायक हैं और 2014 में वे अल्मोड़ा  सीट से लोकसभा चुनाव की दावेदारी भी कर चुकी हैं. हालांकि उस दौरान उन्हें टिकट नहीं मिला था. बाद में रेखा आर्य ने कांग्रेस का दामन थामा.

उत्तराखण्ड के सियासी संकट के दौरान फिर से रेखा आर्य भाजपा में शामिल हुई. राज्य में बीजेपी की सरकार बनने के बाद रेखा आर्य को त्रिवेन्द्र सरकार में महिला बाल विकास मंत्री की जिम्मेदारी मिली. त्रिवेन्द्र सरकार में रेखा आर्य सबसे युवा व तेज तर्रार मंत्री होने के साथ ही अकेली महिला मंत्री भी हैं. लेकिन अब रेखा आर्य अल्मोड़ा सीट से चुनाव मैदान में उतरना चाहती हैं.

पार्टी के सामने उन्होंने अपनी मंशा भी जता दी है. लेकिन मौजूदा वक्त में अल्मोड़ा  सीट से केन्द्रीय राज्य मंत्री अजय टम्टा सांसद हैं. अजय टम्टा पार्टी के पुराने कार्यकर्ता होने के साथ ही अब केन्द्र सरकार में बतौर राज्यमंत्री जिम्मेदारी संभाल रहे हैं. ऐसे में राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार रेखा आर्य ने एक तरीके से अपनी दावेदारी पेश कर केन्द्रीय राज्यमंत्री अजय टम्टा की दावेदारी को चुनौती दी है.

हालांकि टिकट पर फैसला पार्टी शीर्ष नेतृत्व ही करेगा लेकिन रेखा आर्य की दावेदारी ने कहीं न कहीं पार्टी के सामने चुनौती भी खडी कर दी है. इसकी वजह है कि राज्य की सभी पांच लोकसभा सीटों पर मौजूदा वक्त में पार्टी के सांसद हैं. हालांकि रेखा आर्य का कहना है कि वे पार्टी के सामने अपनी बात रख चुकी हैं और पार्टी शीर्ष नेतृत्व का जो फैसला होगा वो उन्हें मान्य होगा.

बीजेपी फुल इलेक्श मोड में है. पार्टी की चुनाव तैयारी जोरों पर है. 2014 के चुनाव में पार्टी के खाते में राज्य की पांचों सीटें आई थी. इस बार भी पार्टी की कोशिश पांचों सीटों को जीतने की है. हालांकि सभी सीटों में पार्टी के सिटिंग सांसद मौजूद हैं. सूत्रों की माने तो पार्टी सभी सीटों पर सर्वे के आधार पर ही टिकट देगी. ऐसे में जब पार्टी में नए चेहरे भी दावेदारी कर रहे हों तो फिर क्या पार्टी इस बार कोई नया प्रयोग करेगी.

हालांकि बीजेपी के प्रदेश मीडिया प्रभारी डॉ देवेन्द्र भसीन का कहा है कि चुनाव से पहले पार्टी में कई दावेदार होते हैं और दावेदारी भी होती है लेकिन टिकट बंटवारे के बाद एकजुट होकर चुनाव लडा जाता है. ऐसे में टिकट बंटवारे से पहले सभी को दावेदारी का अधिकार है.