close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

‘ABCD’ फिल्म समीक्षा : एक्टिंग नहीं, कोरियोग्राफी है फिल्म की खासियत

बॉलीवुड में आने वाले समय में यदि ‘डांस आइकन’ की बात चली तो कोरियोग्राफर रेमो डिसूजा का नाम उनकी फिल्म ‘एनी बडी कैन डांस’ (एबीसीडी) के लिए सामने आएगा। रेमो की यह फिल्म अपनी कहानी और अभिनय के लिए नहीं बल्कि अद्भुत एवं शानदार डांस के लिए याद की जाएगी।

ज़ी न्यूज ब्यूरो
नई दिल्ली : बॉलीवुड में आने वाले समय में यदि ‘डांस आइकन’ की बात चली तो कोरियोग्राफर रेमो डिसूजा का नाम उनकी फिल्म ‘एनी बडी कैन डांस’ (एबीसीडी) के लिए सामने आएगा। रेमो की यह फिल्म अपनी कहानी और अभिनय के लिए नहीं बल्कि अद्भुत एवं शानदार डांस के लिए याद की जाएगी।
फिल्म में नयापन नहीं है। फिल्म का कथानक घसा-पिटा है। हॉलीवुड की ‘स्टेप अप’ की लाइन पर बनी फिल्म में डांस के सिक्वेंसों को एक में बड़े ही कलाकारी से पिरोया गया है। फिल्म की एक बड़ी खासियत है थ्री डी का इस्तेमाल। इससे फिल्म के कई दृश्य लाजवाब बन गए हैं।
फिल्म की कहानी कुछ इस तरह है। विष्णु (प्रभु देवा) एक कोरियोग्राफर हैं लेकिन एक दिन उनके बिजनेस पार्टनर केके मेनन (जहांगीर खान) विष्णु को डांस एकेडमी से बाहर करा देता है। इसके बाद विष्णु मुम्बई और डांस दोनो को ही छोड़ने का मन बना लेता है। हालांकि उसके जाने से एक रात पहले विष्णु गणेशउत्सव में एक डांस ग्रुप को देखता है जो आने वाले गणेशोत्सव के लिए पूरे जोश से डांस की तैयारी कर रहा होता है।
इस ग्रुप को देखकर विष्णु अपना फैसला बदल देता है वह इस ग्रुप का कोच बन जाता है। अपनी पुरानी दुश्मनी को छोड़कर और पिछले बुरे समय को छोड़कर वह उन्हें भारत का सबसे अच्छा डांस ग्रुप बनाने की सोचता है। इस फिल्म की सबसे बड़ी ताकत डांस की विविधता है जो दर्शकों को खूब भाती है। फिल्म की कहानी काफी कमजोर है पर रेमो के जोरदार डांस ने फिल्म को बचा लिया है।
अभिनय की गर बात करें तो के के मेनन को छोड़कर बाकी के कलाकार अपन प्रभाव नहीं जमा पाए हैं। चूंकि मेनन मझे हुए कलाकार हैं तो यहां पर भी उन्होंने अपना दमदार अभिनय किया है। मेनन ने अपनी नकारात्मक भूमिका अच्छी तरह निभाई है।
बॉलीवुड में अपनी पारी शुरू करने वाली ‘सो यू थिंक यू कैन डांस’ की स्टार लॉरेन गॉटलिएब ने भी अपने अभिनय से चौंकाया है। लॉरेन की हिंदी सुनने में काफी रोचक लगती है।
अन्य कलाकार गणेश आचार्य, प्रभुदेवा, रेमो चूंकि मूल रूप से कोरियोग्राफर हैं, ऐसे में उनसे एक सधे हुए अथवा बेहतर अभिनय की उम्मीद करनी बेमानी होगी।
इस फिल्म की जान नृत्य है जो फिल्म को बचा ले जाती है। रेमो ने नृत्य के लिए काफी मेहनत की है और डांस सिक्वेंस को बेहतरीन ढंग से फिल्माया भी गया है। फिल्म का संगीत भी सुनने में अच्छा है।
कुल मिलाकर फिल्म के बारे में यही कहना है कि यदि आप डांस में जरा भी रुचि रखते हैं तो यह फिल्म आपका अच्छा-खासा मनोरंजन करेगी। आपको नृत्य के बेहतरीन टिप्स देखने को मिलेंगे। रेमो से इससे ज्यादा उम्मीद नहीं की जानी चाहिए।