पीएम मोदी ने महाराष्ट्र को दिया नई मेट्रो का तोहफा, कार्यक्रम में नहीं पहुंचे सीएम

विधानसभा चुनाव से पहले एक सप्ताह के भीतर दूसरी बार महाराष्ट्र पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज नागपुर में मेट्रो सहित बुनियादी ढांचे की कई परियोजनाओं का तोहफा राज्य को दिया तथा इस बात पर जोर दिया कि उनकी सरकार भ्रष्टाचार को खत्म करने एवं विकास को लेकर प्रतिबद्ध है।

पीएम मोदी ने महाराष्ट्र को दिया नई मेट्रो का तोहफा, कार्यक्रम में नहीं पहुंचे सीएम

नागपुर : विधानसभा चुनाव से पहले एक सप्ताह के भीतर दूसरी बार महाराष्ट्र पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज नागपुर में मेट्रो सहित बुनियादी ढांचे की कई परियोजनाओं का तोहफा राज्य को दिया तथा इस बात पर जोर दिया कि उनकी सरकार भ्रष्टाचार को खत्म करने एवं विकास को लेकर प्रतिबद्ध है।

नागपुर के लिए केंद्रीय कैबिनेट की ओर से 8,860 करोड़ रुपए की मेट्रो परियोजना को मंजूरी दिए जाने के एक दिन बाद मोदी ने आज यहां इसकी आधारशिला रखी। नागपुर केंद्रीय सड़क परिवहन एवं जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी का संसदीय क्षेत्र है।

प्रधानमंत्री ने नागपुर शहर में पारदी फ्लाईओवर की आधारशिला रखने के अलावा 1000 मेगावाट के मौदा सुपर थर्मल पावर प्रोजेक्ट स्टेज-1 राज्य को समर्पित किया। मोदी ने यहां राजनीतिक भाषण से पूरी तरह परहेज किया लेकिन उनके कार्यक्रमों में कहीं न कहीं आगामी विधानसभा चुनाव की छाया दिखी। यहां मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण नहीं पहुंचे क्योंकि पिछले शनिवार को सोलापुर में एक कार्यक्रम के दौरान उन्हें भीड़ की हूटिंग का सामना करना पड़ा था और उस कार्यक्रम में मोदी भी मौजूद थे। चव्हाण ने पहले ही कह दिया था कि वह नागपुर के कार्यक्रमों में भाग नहीं लेंगे।

मोदी ने अपने भाषण में चव्हाण का कोई जिक्र नहीं किया, लेकिन शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि अगर मुख्यमंत्री उपस्थित होते तो उन्हें खुशी होती। नायडू ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार को ‘टीम इंडिया’ के तौर पर मिलकर काम करना चाहिए।

नागपुर में 38.215 किलोमीटर की मेट्रो परियोजना को मार्च, 2018 तक पूरा होना है। इसमें राज्य और केंद्र की बराबर की हिस्सेदारी होगी। मौदा और नागपुर में दिए अपने संबोधनों में मोदी ने भ्रष्टाचार को ‘बीमारी और पाप’ करार दिया और कांग्रेस का नाम लिए बगैर उस पर हमले किए।

उन्होंने कहा, भ्रष्टाचार ने देश को तबाह कर दिया है.. कुछ के लिए यह जीवन शैली बन गया है। इस बीमारी को खत्म करना है। हमें इस पाप से मुक्ति पानी है। प्रधानमंत्री ने कहा, अगर मुझे जनता और राजनीतिक दलों में से चुनना होगा तो मैं पहले जनता को रखूंगा। मोदी ने कहा कि देश में हर व्यक्ति को बिजली मुहैया कराना उनकी सरकार की शीर्ष प्राथमिकता है।

उन्होंने कहा, किसी भी देश की प्रगति के लिए बुनियादी ढांचे को प्राथमिकता देनी होगी। अगर हम स्थायी बुनियादी ढांचा मुहैया कराएंगे तो विकास की संभावनाएं बढ़ती हैं। बुनियादी ढांचे में बिजली सबसे महत्वपूर्ण है क्योंकि लोगों की जिंदगी में बदलाव लाने के लिए यह निर्णायक है। विदर्भ में कर्ज के बोझ से दबे किसानों की पीड़ा को लेकर मोदी ने कहा कि किसान समुदाय प्रधानमंत्री जनधन योजना का फायदा उठाए जो 28 अगस्त को शुरू हो रही है। उन्होंने कहा कि भारत में तेजी से हो रहा शहरीकरण हो रहा है और वह इसे चुनौती नहीं, बल्कि आर्थिक विकास के अवसर के तौर पर देखते हैं।