ऐसा रहस्यमयी मंदिर, जो बताती है कि कब होगी बारिश? वैज्ञानिक भी हैरान

Jagannath Temple Kanpur: यूपी के कानपुर जिले में एक ऐसा मंदिर (Mysterious Temple) है, जहां पर मंदिर की छत से चिलचिलाती धूप में अचानक पानी की बूंदे टपकने लगती हैं. बारिश की शुरुआत होते ही इन बूंदों का टपकना बंद हो जाता है. यह मंदिर यूपी की औद्योगिक नगरी कहे जाने वाले कानपुर जिले के भीतरगांव इलाके से ठीक तीन किलोमीटर की दूरी पर बेहटा गांव में स्थित है. इस प्राचीन मंदिर में भगवान जगन्नाथ (Jagannath Temple Kanpur) की पूजा होती है. 

Jun 08, 2021, 11:29 AM IST
1/5

आज भी है एक राज

there is still a secret of jagannath temple

बताते हैं कई बार वैज्ञानिक और पुरातत्‍व विशेषज्ञों ने मंदिर से गिरने वाली बूंदों की पड़ताल की. लेकिन, सदियां बीत गई हैं इस रहस्‍य को, आज तक किसी को नहीं पता चल सका कि आखिर मंदिर की छत से टपकने वाली बूंदों का राज क्‍या है.

2/5

मंदिर का इतिहास 5 हजार साल पुराना

history of the jagannath temple is 5 thousand years old

कहा जाता है कि इस मंदिर का इतिहास 5 हजार साल पुराना है. इस मंदिर में भगवान जगन्‍नाथ, बलदाऊ और बहन सुभद्रा के साथ विराजमान हैं. इनके अलावा मंदिर में पद्मनाभम की भी मूर्ति स्‍थापित है.

3/5

टपकने वाली बूंदों के हिसाब से ही बारिश

rain according to the dripping drops in jagannath temple

स्‍थानीय निवासियों के अनुसार सालों से वह मंदिर की छत से टपकने वाली बूंदों से ही मानसून के आने का पता करते हैं. कहते हैं कि इस मंदिर की छत से टपकने वाली बूंदों के हिसाब से ही बारिश भी होती है.

4/5

मंदिर के पुजारी ने कही ये बात

Jagannath Temple priest said this

इस मंदिर के गुंबद से जब बूंदे कम गिरीं तो यह माना जाता है बारिश भी कम होगी. इसके उलट अगर ज्‍यादा तेज और देर तक बूंदे गिरीं तो यह माना जाता है कि बारिश भी खूब होगी. मंदिर के पुजारी ने बताया कि इस बार बारिश कम होगी. क्योंकि दो दिन से छोटी बूंदे टपक रही हैं. 

5/5

पुरी जगन्नाथ मंदिर की तरह निकलती है रथ यात्रा

Rath Yatra like Puri Jagannath Temple

जगन्नाथ मंदिर पुरातत्व के अधीन है. जैसी रथ यात्रा पुरी उड़ीसा के जगन्नाथ मंदिर में निकलती है वैसे ही रथ यात्रा यहां से भी निकाली जाती है. पुरातत्व विभाग कानपुर के एक अघिकारी के मुताबिक मंदिर का जीर्णोद्धार 11वीं शताब्दी के आसपास हुआ था. मंदिर 9वीं सदी का हो सकता है.