Russia Cup Football: फुटबॉल के मैदान में हुई WWE जैसी फाइट, खिलाड़ियों ने एक-दूसरे पर बरसाए लात-घूंसे, वीडियो वायरल
topStories1hindi1461102

Russia Cup Football: फुटबॉल के मैदान में हुई WWE जैसी फाइट, खिलाड़ियों ने एक-दूसरे पर बरसाए लात-घूंसे, वीडियो वायरल

Football Fights: इस फाइट की शुरुआत इंजरी टाइम (90+ मिनट) में हुई. उस वक्त स्पार्टक मॉस्को के पास फ्री-किक थी. उसी वक्त फॉरवर्ड क्विंसी प्रॉम्स और जेनिट सेंट पीटर्सबर्ग के मिडफील्डर विल्मर बैरियोस के कंधे आपस में टकरा गए और उन्होंने एक-दूसरे को कुछ शब्द कहे. 

Russia Cup Football: फुटबॉल के मैदान में हुई WWE जैसी फाइट, खिलाड़ियों ने एक-दूसरे पर बरसाए लात-घूंसे, वीडियो वायरल

Football Match Fight: फुटबॉल के मैदान में खिलाड़ियों के बीच छींटाकशी और धक्का-मुक्की आम बात है. लेकिन रविवार (27 नवंबर) को रशियन कप के एक मैच में जो हुआ, उसने इस खेल का सिर शर्मिंदगी से झुका दिया. दरअसल क्रेस्टोवस्की स्टेडियम में जेनिट सेंट पीटर्सबर्ग और स्पार्टक मॉस्को के बीच मैच चल रहा था. इस दौरान दोनों टीम के खिलाड़ी और कोच ऐसे भिड़े, जैसे बरसों से एक-दूसरे के दुश्मन हों. खेल भावना को अलग रख उन्होंने एक-दूसरे पर जमकर लात-घूंसे बरसाए और देखते ही देखते फुटबॉल के मैदान में WWE की फाइट जैसा माहौल हो गया. 

ऐसे हुई मारपीट की शुरुआत

इस फाइट की शुरुआत इंजरी टाइम (90+ मिनट) में हुई. उस वक्त स्पार्टक मॉस्को के पास फ्री-किक थी. उसी वक्त फॉरवर्ड क्विंसी प्रॉम्स और जेनिट सेंट पीटर्सबर्ग के मिडफील्डर विल्मर बैरियोस के कंधे आपस में टकरा गए और उन्होंने एक-दूसरे को कुछ शब्द कहे. इसके बाद तो जैसे गुस्से का ज्वारभाटा फूट गया. दोनों टीमों के प्लेयर्स और सपोर्ट स्टाफ एक-दूसरे के साथ मारपीट करने लगे. 

इतना ही नहीं, रेफरी के ही सामने जेनिट सेंट पीटर्सबर्ग के रोड्रिगाओ प्राडो ने स्पार्टक के खिलाड़ियों को लात भी मारी. स्पार्टक के सब्स्टीट्यूट प्लेयर अलेक्जेंडर सोबोलेव भी लड़ाई में कूद पड़े. बाकी खिलाड़ियों में भी जमकर मारपीट हो रही थी. इस लड़ाई की वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही है और लाखों की तादाद में लोग इसको देख चुके हैं. 

रेफरी ने दिखाए रेड कार्ड लेकिन...

हालांकि खिलाड़ियों और माहौल को शांत करने के लिए मैच रेफरी व्लादिमीर मोसकलेव ने शुरुआत में कोशिश तो की लेकिन तब तक मामला हाथ से निकल चुका था. 6 खिलाड़ियों को रेफरी ने रेड कार्ड भी दिखाए, जिसमें दोनों टीमों के तीन-तीन खिलाड़ी थे. इस लिस्ट में स्पार्टक की ओर से अलेक्सांद्र सोबेलेव, शमर निकोलसन और अलेक्सांद्र सेलिखोव शामिल थे. जबकि जेनिट सेंट पीटर्सबर्ग की ओर से बैरियोस, रोड्रिगो और मैल्कम. हालांकि हैरानी की बात यह है कि जिन खिलाड़ियों को रेड कार्ड मिला, तब वे बेंच पर बैठे थे और सीधे तौर पर लड़ाई का हिस्सा भी नहीं थे. 

इस मैच को जेनिट सेंट पीटर्सबर्ग ने 4-2 से जीता और अब वह अगले राउंड में पहुंच गया है. यह मैच पेनाल्टी शूटआउट तक गया था. इसके लिए दोनों टीमों के पास खिलाड़ी थे. इस मैच का नतीजा पेनाल्टी शूटआउट से निकला था. लेकिन मैच में खिलाड़ियों का बर्ताव देख हर कोई निराश है.

पाठकों की पहली पसंद Zeenews.com/Hindi - अब किसी और की ज़रूरत नहीं

 

Trending news