CWC Meeting: गहलोत ने राहुल को अध्यक्ष बनाने की उठाई मांग, इन दो राज्यों के सीएम ने भरी हामी

CWC Meeting: संगठन के चुनाव पर सोनिया ने कहा कि पूर्ण संगठनात्मक चुनावों का कार्यक्रम आपके सामने है. 30 जून 2021 को चुनावी रोडमैप को अंतिम रूप दिया गया था, लेकिन कोरोना के चलते चुनाव नहीं हो पाया.

Written by - Shivam Pratap | Last Updated : Oct 16, 2021, 03:07 PM IST
  • सोनिया गांधी ने कहा- मैं पूर्णकालिक और सक्रिय अध्यक्ष
  • 1 नवंबर से शुरू हो सकती है संगठन चुनाव की प्रक्रिया
CWC Meeting: गहलोत ने राहुल को अध्यक्ष बनाने की उठाई मांग, इन दो राज्यों के सीएम ने भरी हामी

नई दिल्लीः CWC Meeting: कांग्रेस मुख्यालय में शनिवार को हुई कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में एक तरफ जहां पार्टी की रणनीति और संगठन को लेकर चर्चा हुई, वहीं दूसरी तरफ पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद को लेकर भी एक लंबी योजना बनी.

अक्टूबर 2022 तक मिल सकता है नया अध्यक्ष
संगठन के चुनाव पर सोनिया ने साफ कहा कि पूर्ण संगठनात्मक चुनावों का कार्यक्रम आपके सामने है. 30 जून 2021 को चुनावी रोडमैप को अंतिम रूप दिया गया था, लेकिन कोरोना के चलते चुनाव नहीं हो पाया. आप सभी इसे तय करें, पार्टी में किसी एक मर्जी नहीं चलेगी. आधिकारिक सूत्रों से जानकारी मिली कि कांग्रेस संगठन चुनाव की प्रक्रिया 1 नवंबर से शुरू हो सकती है. पार्टी को अगले साल अक्टूबर तक नया अध्यक्ष मिल सकता है. सूत्रों ने बताया कि साल 2022 में संगठन चुनाव कराए जाएंगे.

हालांकि सूत्रों का कहना है की CWC बैठक में राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष बनाए जाने का प्रस्ताव दिया, जिसे छत्तीसगढ़ के CM भूपेश बघेल और पंजाब CM चरणजीत चन्नी ने अपना समर्थन दिया. 

पहले भी राहुल को दे चुके हैं समर्थन
हालांकि ये पहला मौका नहीं है, जब राजस्थान के मुख्यमंत्री गहलोत ने राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष बनाने की मांग की है. इससे पहले पिछले साल जून में हुई CWC की बैठक में भी गहलोत ने राहुल को अध्यक्ष बनाने की मांग की थी. गहलोत ने कहा था कि राहुल के लिए एक बार फिर से संगठन की बागडोर संभालने का समय आ गया है. उन्हें इस दौरान उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता हरीश रावत का समर्थन भी मिला था. हालांकि, अन्य वरिष्ठ नेताओं ने इस पर कोई टिप्पणी नहीं की थी.

2019 में राहुल ने दिया था इस्तीफा
बता दें कि साल 2019 के लोकसभा में हारने के बाद राहुल गांधी ने कांग्रेस के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था. उसके बाद सोनिया ने पार्टी की कमान संभाली. हालांकि पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं ने लगातार चुनाव की मांग की. साथ ही कई ने यह भी प्रस्ताव दिया कि अगर राहुल फिर से कमान संभालने को तैयार हैं तो उन्हें अध्यक्ष पद पर लौट आना चाहिए.

यह भी पढ़िएः CWC Meeting: जी-23 नेताओं को सोनिया का कड़ा संदेश- मैं फुल टाइम अध्यक्ष, मीडिया के जरिए न करें बात

वहीं, सोनिया ने कहा कि कोरोना संकट के कारण अध्यक्ष के चुनाव को लेकर समयसीमा बढ़ानी पड़ी थी. उन्होंने जोर देकर कहा, ‘अगर आप मुझे बोलने की इजाजत दें तो मैं पूर्णकालिक और सक्रिय अध्यक्ष हूं… पिछले दो वर्षों में कई साथियों और खासकर युवा नेताओं ने नेतृत्व करने की जिम्मेदारी उठाई है और पार्टी की नीतियों को लोगों तक लेकर गए हैं.’ 

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़