कोरोना से युद्ध में हमारे हाथ मजबूत करेगा DRDO, विकसित किया स्वदेशी वेंटिलेटर

डीआरडीओ के अध्यक्ष, डॉ जी सतेश रेड्डी ने कहा कि कुछ समय पहले DRDO ने सोसायटी फॉर बायोमेडिकल टेक्नोलॉजी (SBMT) के साथ एक वेंटिलेटर विकसित किया, इसकी तकनीक को इंडस्ट्री लेवल पर वेंटिलेटर तैयार करने के लिए दे दिया गया है. 

कोरोना से युद्ध में हमारे हाथ मजबूत करेगा DRDO, विकसित किया स्वदेशी वेंटिलेटर

नई दिल्लीः कोरोना के संकटकाल में भारत का रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन भी आगे आया है. भारत में कोरोना के कारण उपजी स्वास्थ्य समस्या को देखते हुए DRDO ने उन्नत तकनीकि वाला वेंटिलेटर विकसित किया है. इसकी तकनीकि को वेंटिलेटर इंडस्ट्री को सैंपा गया है.

ताकि इसे तुरंत ही बड़े पैमाने पर बनाकर प्रयोग में लाया जा सके. युद्धक स्थितियों में भारत को मजबूत बनाने वाला DRDO कोरोना से भी युद्ध में देश को कमजोर नहीं पड़ने देगा. 

कोरोना से लड़ाई में सिर्फ दो हथियार आएंगे काम
दरअसल कोरोना के बढ़ते संकट के बीच सबसे बड़े दो ही हथियार हैं, एक है सोशल डिस्टेंसिंग और दूसरा है बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं. प्रधानमंत्री मोदी की अपील और घोषणा के बाद भारत में 21 दिन का लॉकडाउन लागू है. ऐसे में लोग सोशल डिस्टेंसिंग तो फॉलो कर रहे हैं,

लेकिन इससे पूरी तरह निपटने के लिए बहुत बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं का होना जरूरी है. क्योंकि अगर कोरोना बड़े लेवल पर लोगों को अपना शिकार बनाना शुरू करेंगा तो इस स्तर पर अस्पतालों में अलग आइसोलेशन वॉर्ड और वेंटिलेटर की कमी से जूझना पड़ सकता है. 

बेबसी का जिम्मेदार कौन? इटली की गलती से सीखो और भारत को बचाओ

DRDO अध्यक्ष ने दी जानकारी
इस बारे में खुद DRDO के अध्यक्ष ने जानकारी दी है. उन्होंने खुद इस वेंटिलेटर के बारे में बताया और कहा जल्द ही इसे तैयार कर लिया जाएगा. डीआरडीओ के अध्यक्ष, डॉ जी सतेश रेड्डी ने कहा कि कुछ समय पहले DRDO ने सोसायटी फॉर बायोमेडिकल टेक्नोलॉजी (SBMT) के साथ एक वेंटिलेटर विकसित किया,

इसकी तकनीक को इंडस्ट्री लेवल पर वेंटिलेटर तैयार करने के लिए दे दिया गया है. मैसूर की एक इंडस्ट्री इसका निर्माण कर रही है और यह उन्नत वेंटिलेटर का सेकेंड एडिशन है. 

दिल्ली के मोहल्ला क्लीनिक का डॉक्टर पाया गया कोरोना पॉजिटिव, 800 लोग होंगे क्वारनटीन

42 नए मामले सामने आए हैं
स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक बीते 24 घंटों में देशभर में कोरोना से चार मरीजों की मौत हो गई है जबकि 42 नए मामले सामने आए हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने जानकारी देते हुए कहा कि देश में कोरोना से पीड़ित मरीजों की संख्या बढ़कर 649 हो गई है.