24 घंटे में कोरोना के 601 मामले आए, सरकार ने कहा-मास्क जरूर पहनें

सरकार की ओर से बाहर निकलते वक्‍त चेहरे को कपड़े से ढकने की सलाह दी गई है. उन्‍होंने कहा कि कुल मामलों में 30 फीसदी मामले तबलीगी जमात से जुड़े हैं. 68 लोग अपनी जान भी गंवा चुके हैं. लव अग्रवाल ने कहा कि हमारी डेथ रिपोर्ट हैं उनमें ज्‍यादातर उम्र या फिर कई अन्‍य बीमारियां मौत ही वजह रही हैं. 

24 घंटे में कोरोना के 601 मामले आए, सरकार ने कहा-मास्क जरूर पहनें

नई दिल्‍लीः कोरोना का मामला भारत में बढ़ ही रहा है. शनिवार को कुल मामलों की संख्या 2902 हो गई, इनमें से 35 फीसदी मामले मरकज से जुड़े हैं. इस तरह बड़े लेवल पर संक्रमण फैलने की दर भी बढ़ गई है. सरकार ने इस स्थिति पर चिंता जाहिर की है और लोगों से सख्ती से लॉकडाउन का पालन करने की अपील की है. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के संयुक्‍त सचिव लव अग्रवाल ने शनिवार को प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि सरकार ने चेहरा ढंक कर निकलने की एडवाइजरी जारी की है. 

WHO की रिपोर्ट का दिया हवाला
बाहर निकलते वक्‍त चेहरे को कपड़े से ढकने की सलाह दी गई है. उन्‍होंने कहा कि कुल मामलों में 35 फीसदी मामले तबलीगी जमात से जुड़े हैं. 68 लोग अपनी जान भी गंवा चुके हैं. लव अग्रवाल ने कहा कि हमारी डेथ रिपोर्ट हैं उनमें ज्‍यादातर उम्र या फिर कई अन्‍य बीमारियां मौत ही वजह रही हैं.

इसलिए सरकार की ओर से जारी किए गए दिर्नेशों का पालन करें. उन्‍होंने WHO की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि एक दिन में 4 हजार से ज्यादा मौतें हुई हैं.

अगर थोड़ा भी चूक गए तो हालात बिगड़ जाएंगे: लव अग्रवाल
उन्‍होंने कहा कि कोरोना वायरस से लड़ने में सरकार के कदम सफल साबित हो रहे हैं. अगर अब थोड़ी भी चूक हुई तो हालात बिगड़ सकते हैं. देश के 17 राज्‍यों में तबलीगी जमात से संबंधित लोगों में से 1023 में कोरोना के संक्रमण की पुष्टि हुई है. कुल मामलों का लगभग 30 प्रतिशत जमात से संबंधित है.\

लव अग्रवाल ने कहा कि देश में कोरोना के कुल मामलों में से 9 फीसदी केस 0-20 वर्ष की आयु के लोगों में हैं. 42 प्रतिशत केस 21-40 वर्ष की आयु के हैं. 33 प्रतिशत मामले 41-60 वर्ष की आयु के रोगियों के हैं और 17 प्रतिशत रोगी 60 वर्ष की आयु के ऊपर के हैं.

'तबलीगी जमात के लोग अगर बदतमीजी करें तो उन्हें गोली मारो'

लोगों से 'घर पर बना मास्क' लगाने को कहा
भारत में कोरोना वायरस के मामलों में तेजी आने के साथ ही केंद्र सरकार ने शनिवार को एक परामर्श जारी कर कोविड-19 का प्रसार रोकने के लिये लोगों से 'घर पर बना मास्क' लगाने को कहा है खास तौर पर तब जब वे घरों से बाहर निकलें. '

चेहरे और मुंह के बचाव के लिये घर में बने सुरक्षा कवर के इस्तेमाल पर परामर्श' में सरकार ने कहा कि ऐसे मास्क के इस्तेमाल से बड़े पैमाने पर समुदाय का बचाव होगा और कई देशों ने घर में बने मास्क के आम लोगों के लिये फायदेमंद होने का दावा किया है.

गोरखपुर में बना यूपी का पहला सैनिटाइज टनल, 30 सेकेंड में होंगे सैनिटाइज

रोगियों को खास तौर पर बने मास्क ही पहनने चाहिए
भारत सरकार ने अपने परामर्श में रेखांकित किया कि घर में बने मास्क निश्चित रूप से सफाई में मददगार हैं लेकिन इसके साथ ही चेताया भी कि 'घर में बनाए गए मास्क की अनुशंसा स्वास्थ्य कर्मियों अथवा कोविड-19 के मरीजों का इलाज या उनके संपर्क में रह रहे लोगों के लिए नहीं है.

इन मास्क का इस्तेमाल मरीजों को भी नहीं करना चाहिए क्योंकि इन श्रेणी के लोगों को खास तौर पर बचाव के लिये तैयार मास्क पहनने की जरूरत होती है.'