भीम आर्मी के चंद्रशेखर को मायावती ने बताया स्वार्थी

नागरिकता कानून के खिलाफ हुई हिंसक घटनाओं में शामिल होने के आरोप में भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर रावण ने स्वत: अपनी गिरफ्तारी दी है. इस पर मायावती आग बबूला हो गयी हैं. उन्होंने चंद्रशेखर रावण को स्वार्थी और अपनी राजनीति चमकाने वाला करार दिया.   

भीम आर्मी के चंद्रशेखर को मायावती ने बताया स्वार्थी

लखनऊ: पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि चंद्रशेखर उत्तर प्रदेश का रहने वाला है लेकिन नागरिकता संशोधन कानून व राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर के खिलाफ दिल्ली की जामा मस्जिद के विरोध प्रदर्शन में शामिल होता है. इससे साफ पता चलता है कि वो दिल्ली की राजनीति में आगे बढ़ने के लिये ऐसा कर रहा है.

ऐसे लोगों से सावधान रहें दलित

मायावती ने कहा कि ऐसे शरारती तत्वों से बसपा के कार्यकर्ताओं और दलितों को सावधान रहने की जरूरत है. दलितों का मानना है कि भीम आर्मी का चन्द्रशेखर बसपा के मजबूत राज्यों में षड़यन्त्र के तहत चुनाव के करीब वहां पार्टी के वोटों को प्रभावित करने वाले मुद्दे पर प्रदर्शन करके फिर जबरन जेल चला जाता है. इससे विरोधी पार्टी को मदद मिलती है.

जामा मस्जिद प्रदर्शन में हुआ था शामिल

बता दें कि भीम आर्मी नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के विरोध में शुक्रवार को सड़क पर उतरी थी. चंद्रशेखर आजाद संविधान की प्रति के साथ जामा मस्जिद में नागरिकता कानून के खिलाफ नारेबाजी करते भी नजर आए. चंद्रशेखर ने सीएए और एनआरसी के विरोध में मार्च का ऐलान किया था. हालांकि पुलिस ने चंद्रशेखर को मार्च की इजाजत नहीं दी. इसके बाद पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया था.

चंद्रशेखर आजाद को कांग्रेस ने दिया समर्थन

आपको बता दें कि चंद्रशेखर आजाद को कांग्रेस का समर्थन मिला. कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा कि वो भीम आर्मी के मार्च का सपोर्ट करते हैं. दिग्विजय सिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा कि मैं चन्द्रशेखर की भीम आर्मी की जामा मस्जिद से लेकर जंतर मंतर तक निकाली जा रही CAA और NRC के खिलाफ मार्च का समर्थन करता हूं.

ये भी पढ़ें- राहुल गांधी को भाजपा की चुनौती