मजबूत हुआ 'तौकते' तूफान, पीएम मोदी ने लिया इससेे निपटने की तैयारियों का जायजा

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात की ओर तेजी से बढ़ रहे  चक्रवाती तूफान तौकते के कहर से लोगों को बचाने के लिए तैयारियों का जायजा लिया है.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : May 15, 2021, 08:48 PM IST
  • 18 मई को गुजरात के पोरबंदर तट से तौकते की टकराने की है संभावना.
    175 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से चक्रवात बढ़ रहा है आगे.
मजबूत हुआ 'तौकते' तूफान, पीएम मोदी ने लिया इससेे निपटने की तैयारियों का जायजा

मुंबई: अरब सागर में उपजा चक्रवाती तूफान 'तौकते' मजबूत हो गया है और यह गुजरात एवं केंद्र शासित प्रदेश दमन-दीव एवं दादरा-नगर हवेली की ओर तेजी से बढ़ रहा है. भारतीय मौसम विभाग(आईएमडी) के मुताबिक इसके शनिवार रात तक 'बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान' में तब्दील होने की और 18 मई को गुजरात के पोरबंदर और नलिया तट से टकराने की संभावना है. 

कोरोना संकट से जूझ रहे गुजरात के ऊपर कुदरत का कहर चक्रवाती तूफान के रूप में टूटने की संभावना है. ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चक्रवात ‘‘तौकते’’ से निपटने की तैयारियों का जायजा लेने के लिए शनिवार को राज्यों, केंद्रीय मंत्रालयों और एजेंसियों के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक की और संबंधित अधिकारियों को लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने तथा बिजली, दूरसंचार, स्वास्थ्य, पेयजल जैसी जरूरी सेवाओं का प्रबंध सुनिश्चित करने के निर्देश दिए.

तूफान के कारण कोविड प्रबंधन में ना हो परेशानी 
प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि प्रधानमंत्री ने चक्रवात से जिन स्थानों के प्रभावित होने की संभावना है वहां के अस्पतालों में कोविड प्रबंधन, टीकाकरण, बिजली की कमी न हो, इसके उपाय और आवश्यक दवाओं के भंडारण के लिए विशेष तैयारियों की आवश्यकता पर बल दिया.

इस उच्च स्तरीय बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, प्रधानमंत्री के प्रमुख सचिव, केबिनेट सचिव, गृह मंत्रालय, नागरिक उड्डयन, संचार, पोत परिवहन मंत्रालयों के सचिव, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) के शीर्ष अधिकारी, रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष और प्रधानमंत्री कार्यालय तथा गृह मंत्रालय के शीर्ष अधिकारियों ने हिस्सा लिया.

जामनगर से ऑक्सीजन आपूर्ति पर न पड़े असर 
पीएमओ ने कहा, 'प्रधानमंत्री ने नियंत्रण कक्षों को चौबीसों घंटे कार्यरत रखने का निर्देश दिया. उन्होंने जामनगर से होने वाली ऑक्सीजन की आपूर्ति पर कम से कम प्रभाव पड़ना सुनिश्चित करने पर विशेष ध्यान देने को कहा. उन्होंने समय रहते बचाव व राहत अभियान में स्थानीय लोगों को शामिल करने के बारे में भी बात की.'

वहीं भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बताया कि तौकते चक्रवात 18 मई की दोपहर या शाम को पोरबंदर और नलिया के बीच गुजरात तट पर पहुंच सकता है और इस दौरान हवाओं की रफ्तार बीच-बीच में 175 किलोमीटर प्रति घंटा भी हो सकती है. 

कई जिलों में हो सकती है तेज बारिश
इस वजह से गुजरात के तटीय जिलों जूनागढ़, गिर सोमनाथ में अत्यंत भीषण बारिश हो सकती है जबकि जूनागढ़, पोरबंदर, द्वारका, अमरेली, राजकोट और जामनगर सहित कुछ अन्य स्थानों पर बहुत भारी से भारी बारिश की संभावना है. बैठक में चर्चा हुई कि केबिनेट सचिव सभी तटीय राज्यों और केंद्रीय मंत्रालयों के साथ ही एजेंसियों के लगातार संपर्क में रहेंगे. 

तूफान को ‘तौकते’ नाम म्यांमा ने दिया है जिसका मतलब ‘छिपकली’ होता है. इस साल भारतीय तट पर यह पहला चक्रवाती तूफान होगा. 

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़