कांग्रेस का सबसे वरिष्ठ विधायक भाजपा में शामिल, सत्ता संघर्ष में कांग्रेस की हार

मध्य प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ आदिवासी नेता बिसाहूलाल सिंह ने पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में भाजपा जॉइन कर ली. आपको बता दें कि बिसाहूलाल सिंह भी उन चार विधायकों में शामिल थे जो काफी समय तक बेंगलुरु में रहे.   

कांग्रेस का सबसे वरिष्ठ विधायक भाजपा में शामिल, सत्ता संघर्ष में कांग्रेस की हार

भोपाल: मध्य प्रदेश कांग्रेस के सबसे वरिष्ठ विधायक बिसाहू लाल सिंह ने इस्तीफा देकर भाजपा का दामन थाम लिया है. उन्होंने कांग्रेस पर उपेक्षित करने का आरोप लगाया. बिसाहूलाल ने कहा कि  'इंदिरा गांधी जी के समय मैं और कमल नाथ जी एक साथ कांग्रेस मे आये थे. मध्य प्रदेश का सबसे वरिष्ठ विधायक होने के बावजूद मेरी उपेक्षा की गई. कांग्रेस पार्टी के काम करने के तरीके से मैं बहुत दुखी हूं.'

शिवराज सिंह चौहान हमारे नेता- बिसाहू लाल

बिसाहूलाल सिंह ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान हमारे नेता हैं और हम उनके संपर्क में बने हुए हैं. मध्य प्रदेश का सबसे वरिष्ठ विधायक होने के बावजूद मेरी उपेक्षा की गई. मेरे क्षेत्र में अपने पसंद के अधिकारियों की तैनाती कर मुझे प्रताड़ित किया गया. कांग्रेस पार्टी के काम करने के तरीके से मैं बहुत दुखी हूं. मैं किसी के दबाव मे नहीं हूं और अपनी स्वेच्छा से इस्तीफा दे रहा हूं. मैं गरीबों और किसानों के नेता शिवराज सिंह चौहान जी के साथ हूं.

कांग्रेस ने मानी हार

 

कांग्रेस नेता लक्ष्मण सिंह ने स्वीकार किया कि सत्ता संघर्ष में उनकी पार्टी पिछड़ गयी है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस विपक्ष में बैठने के लिये तैयार है. भविष्य में जब चुनाव होंगे तो कांग्रेस पूर्ण बहुमत से सरकार बनाएगी.

कमलनाथ ने बागी मंत्रियों को बर्खास्त करने की सिफारिश की

 

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने राज्यपाल से उन मंत्रियों को तत्काल बर्खास्त करने की अपील की जिन्होंने बगावत करते हुए इस्तीफा दे दिया है. उल्लेखनीय है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने आज सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मिलने उनके आवास पहुंचे थे. दोनों नेताओं के बीच लगभग एक घंटे तक बैठक चली. इस दौरान केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी उनके साथ रहे. ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. 

ये भी पढ़ें- सिंधिया ने छोड़ी कांग्रेस, 19 विधायकों का भी दिलवाया इस्तीफा