close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

टीम इंडिया पर अटैक की प्लानिंग करने वाले आतंकी जान लें, वहां धोनी भी है

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान धोनी ने आर्मी की ट्रेनिंग पूरी कर ऑनररी लेफ्टिनेंट कर्नल महेंद्र सिंह धोनी का पद संभाला. 31 जुलाई 2019 से 15 अगस्त तक धोनी ने अपना समय घाटी में आर्मी ट्रेनिंग के लिए बिताया था.

टीम इंडिया पर अटैक की प्लानिंग करने वाले आतंकी जान लें, वहां धोनी भी है

 

नई दिल्ली: महेंद्र सिंह धोनी को 2011 में टेरीटोरियल आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल की उपाधि से नवाजा गया था. इसके बाद धोनी ने कई सेना ट्रेनिंग पूरी की है. इस साल भी विश्व कप से लोटने के बाद टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने वेस्ट इंडीज के दौरे से छूट्टी लेकर सेना में ऑनररी लेफ्टिनेंट कर्नल धोनी ने 31 जुलाई से लेकर 15 अगस्त तक अपना समय घाटी में गुजारा. 


 इस दौरान धोनी ने 15 दिन की आर्मी ट्रेनिंग ली. इस ट्रेनिंग में धोनी हर एक आर्मी स्टाफ की तरह अपनी ड्यूटी निभाई.

विश्व कप के दौरान धोनी ने पहना बलिदान बैज

धोनी ने 2019 विश्व कप के दौरान भी दक्षिण अफ्रीका के साथ खेले गए मैच में अपने ग्लव्स पर बलिदान बैज के साथ मैदान में शहीद सैनिकों को शहादत देने के लिए उतरे थे. जिसपर काफी विवाद भी हुआ लेकिन एक सच्चे आर्मी मैन की तरह धोनी ने किसी बात की परवाह नहीं की.

इससे पहले भी धोनी IPL के दौरान बलिदान बैज वाले टोपी और फोन के कवर पर बलिदान बैज के निशान को लगाए देखे जा चुके हैं. यह बैज धोनी को 2015 में पैरा फोर्सेज की ट्रेनिंग और पैराशूट ट्रेनिंग के बाद पैरा रेजिमेंट में शामिल किए जाने के बाद इसे लगाए जाने की अनुमति मिली थी.

घाटी में ले चुके हैं आर्मी की पूरी ट्रेनिंग

2019 में हुए 15 दिन की ट्रेनिंग में धोनी की तैनाती घाटी के अवंतीपोरा में की गई थी. धोनी ने शुरू के तीन दिन और आखिर के तीन दिन की ड्यूटी अपनी यूनिट 106 टेरिटोरियल आर्मी के साथ बिताएं. इस दौरान धोनी ने फायरिंग के गुण सिखे और साथ ही धोनी ने पैराट्रूपर के रूप में प्रशिक्षण लिया और विमान से एक आर्मी मैन की तरह कूद गए. 

ट्रेनिंग के समय दौरान धोनी ने अन्य आर्मी ऑफिसर की तरह पेट्रोलिंग की. साथ ही गार्ड और पोस्ट की ड्यूटी भी उन्होंने की. धोनी ने कुल 19 किलो वजन के साथ पेट्रोलिंग की जिसमें उनकी वर्दी, AK47 और सामान का वजन शामिल था. इस ट्रेनिंग के दौरान धोनी को फौज के बारे में सारी चीजें बताई.

धोनी ने ट्रेनिंग पूरी कर 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस आर्मी केंप में मनाया. इस ट्रेनिंग के दौरान धोनी ने एक कुशल आर्मी मैन के सारे गुण सीखें और अब वह किसी भी आक्रामक परिस्थिति का सामना करने में सक्षम हैं. एक आर्मी ऑफिसर की तौर पर किसी को भी धूल चटा सकते हैं. टेरिटोरियल आर्मी यूनिट में समय बिताने के बाद से धोनी पूरे आर्मी ऑफिसर के मोड में नजर आते हैं.