मैली गंगा को साफ कराने कीचड़ में उतरे बच्चे

उत्तर प्रदेश में गंगा सफाई जैसा महत्वपूर्ण अभियान प्रशासन ने नन्हे बच्चों पर छोड़ रखा है. गंगा नदी को स्वच्छ कराने के लिए जागरुकता अभियान के तहत प्रदेश के बच्चे गंगा यात्रा निकाल रहे हैं. भले ही इसके लिए उन्हें खुद कीचड़ में उतरना पड़े. लेकिन अधिकारी अपना दामन बचाकर रखना चाहते हैं. 

मैली गंगा को साफ कराने कीचड़ में उतरे बच्चे

संभल: उत्तर प्रदेश से एक ऐसी तस्वीर सामने आई है. जिसमें नौकरशाही का विद्रूप चेहरा दिखाई देता है. 

कीचड़ में उतरते स्कूली बच्चे
प्रदेश भर में एक तरफ गंगा को स्वच्छ बनाने का संदेश देने के लिए गंगा यात्रा निकाली जा रही है, वहीं दूसरी तरफ 'गंगा यात्रा' के प्रचार-प्रसार के लिए कीचड़ में रैली निकालते स्कूली बच्चों की तस्वीर आई सामने है. बच्चों की तस्वीरें सामने आने के बाद अफसरों ने चुप्पी साध रखी है.

भाजपा विधायक का है गांव 
बच्चों की तस्वीर बीजेपी विधायक अजीत कुमार यादव के विधानसभा क्षेत्र के गांव मीरमपुर की है. दरअसल, सरकार के निर्देश पर गंगा जागरूकता के लिए प्रदेश में  'गंगा यात्रा'  निकाली जा रही है. यह गंगा यात्रा कल संभल जनपद में गुन्नौर पहुंचेगी. जिसके स्वागत के लिए जिला प्रशासन पिछले एक हफ्ते से तैयारियों में जुटा हुआ है.

बच्चों पर भार डालकर अधिकारी हो गए निश्चिंत
गंगा यात्रा के प्रचार-प्रसार के लिए जिला प्रसाशन के निर्देश पर  प्राइमरी स्कूलों के टीचरों को बच्चों की रैली निकालने का सख्त फरमान सुनाया गया है. इसी हुक्म का पालन करते हुए  टीचर बच्चों के स्वास्थ्य को नजरअंदाज कर गंदगी और कीचड़ में ही रैली निकलवा रहे हैं.

ये भी पढ़ें-बंदरों को डराने के लिए 'भालू' का सहारा

ये भी पढ़ें-नामीबिया से मंगवाए जा रहें चीते, 1948 में आखिरी बार भारत में देखा गया था चीता