ट्राई ने टाला इंटरनेट कनेक्ट चार्जेस खत्म करने का फैसला

ट्राई ने मंगलवार को अपने बयान में कहा, वायरलेस से वायरलेस डोमेस्टिक कॉस्ट के लिए टर्मिनेशन चार्ज 31 दिसंबर, 2020 तक पहले की तरह 6 पैसे प्रति मिनट लागू रहेंगे. 1 जनवरी, 2021 से वायरलेस टू वायरलेस डोमेस्टिक कॉल्स के लिए जीरो हो जाना चाहिए. भारती एयरटेल और वोडाफोन ने जहां आईयूसी जारी रखने की अपील की थी, वहीं जियो चाहता था कि इसे खत्म किया जाए.

ट्राई ने टाला इंटरनेट कनेक्ट चार्जेस खत्म करने का फैसला

नई दिल्लीः टेलिकॉम रेग्युलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (ट्राई) ने इंटर-नेटवर्क कॉलिंग पर लगने वाले इंटरनेट कनेक्ट चार्जेस (आईयूसी) को जनवरी, 2020 से खत्म करने का फैसला टाल दिया है. ट्राई की ओर से आईयूसी को एक साल के लिए बढ़ा दिया गया है और इसे अब 2021 में खत्म किए जाने की बात कही गई है. पहले आईयूसी चार्जेस जनवरी, 2020 से खत्म किए जाने थे और टेलिकॉम ऑपरेटर्स के बीच इसे लेकर मतभेद थे.

ट्राई ने मंगलवार को अपने बयान में कहा, वायरलेस से वायरलेस डोमेस्टिक कॉस्ट के लिए टर्मिनेशन चार्ज 31 दिसंबर, 2020 तक पहले की तरह 6 पैसे प्रति मिनट लागू रहेंगे. 1 जनवरी, 2021 से वायरलेस टू वायरलेस डोमेस्टिक कॉल्स के लिए जीरो हो जाना चाहिए. भारती एयरटेल और वोडाफोन ने जहां आईयूसी जारी रखने की अपील की थी, वहीं जियो चाहता था कि इसे खत्म किया जाए.

जियो को झटका
वोडाफोन और भारती एयरटेल के लिए आईयूसी चार्ज जारी रहना अच्छी खबर है क्योंकि दोनों ही कंपनियां चाहती थीं कि इन्हें जारी रखा जाए. रिलायंस जियो चाहता था कि इन चार्जेस को खत्म किया जाए. दरअसल, रिलायंस जियो के मुकाबले बाकी नेटवर्क्स पर दूसरे नेटवर्क से आने वाली इनकमिंग कॉल्स ज्यादा हैं. इस तरह जियो को बाकी कंपनियों को ज्यादा आईयूसी चार्ज देना पड़ रहा था. यही वजह है कि अब जियो यूजर्स से आईयूसी चार्ज ले रहा है.

मोदी सरकार के इस प्रोग्राम से दूर-दराज के गांवों में किसान भी होंगे 'डिजिटली लिट्रेट'

यह है आईयूसी 
इंटरकनेक्ट यूजेस चार्ज या आईयूसी ही जियो की कॉलिंग सभी नेटवर्क्स के साथ फ्री न रहने की वजह बनी है. दरअसल, एक टेलिकॉम नेटवर्क से दूसरे नेटवर्क पर कॉलिंग के लिए ट्राई की ओर से तय किए गए एक शुल्क का भुगतान कंपनियों को करना पड़ता है. जिस नेटवर्क से दूसरे नेटवर्क पर आउटगोइंग कॉल की जाती है, उसे दूसरे नेटवर्क को यह आईयूसी फीस देनी पड़ती है.

उदाहरण के लिए अगर एयरटेल कस्टमर ने किसी जियो कस्टमर को कॉल किया है, तो एयरटेल जियो को इसके लिए आईयूसी चार्ज देगा. वहीं, जियो यूजर की ओर से एयरटेल के नंबर पर आउटगोइंग कॉल की स्थिति में जियो भी एयरटेल को आईयूसी चार्ज का भुगतान करेगा.

PPF से जुड़े नियमों से बड़े बदलाव से ग्राहकों को लाभ

Tags: