• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 1,01,497 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 2,07615: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 1,00,303 जबकि अबतक 5,815 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • रेलवे ने 4155 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन किया; 57+ लाख यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुँचाया गया
  • इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्री ने #AatmaNirbharBharat के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए 3 योजनाओं की शुरुआत की
  • #AatmaNirbharBharat के लिए #MakeInIndia को प्रोत्साहित करने के लिए DPIIT ने पब्लिक प्रोक्योरमेंट ऑर्डर, 2017 में संशोधन किया
  • एंटी-कोविड ​​ड्रग मॉलेक्यूल के फास्ट-ट्रैक विकास के लिए SERDB-DST ने IIT (BHU) वाराणसी में अनुसंधान के लिए सहयोग को मंजूरी दी
  • ट्राइफेड कोविड ​​-19 के कारण संकट में पड़े आदिवासी कारीगरों को हरसंभव सहायता प्रदान करेगी
  • पीएसए और डीएसटी ने संयुक्त रूप से राष्ट्रीय विज्ञान प्रौद्योगिकी और नवाचार नीति 2020 के निर्माण की प्रक्रिया की शुरुआत की
  • कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग ने विभिन्न बागवानी फसलों के लिए 2019-20 का दूसरा अग्रिम अनुमान जारी किए हैं
  • कोविड के लक्षण विकसित होने पर, घबराएं नहीं, तुरंत 1075 पर कॉल करें #IndiaFightsCorona #BreakTheStigma

बातचीत की पांच कोशिशें नाकाम, भारत-चीन सीमा पर अभी भी बंदूकें तनी हुई हैं

लद्दाख और उत्तरी सिक्किम से लगी भारत-चीन सीमा पर तनाव यथावत है. दोनों तरफ के सैनिकों की बंदूकें तनी हुई हैं और इस बीच सैनिकों के बीच वार्ता के पांच दौर विफल हो चुके हैं..  

बातचीत की पांच कोशिशें नाकाम, भारत-चीन सीमा पर अभी भी बंदूकें तनी हुई हैं

नई दिल्ली.   गलवान घाटी और लद्दाख की पैंगोंग त्सो झील आज भी भारत और चीन के बीच चल रहे  सैन्य तनाव की साक्षी है. यद्यपि तनाव कम करने के लिए  दोनों देशों के बीच वार्ताओं के पांच दौर हो चुके हैं लेकिन उनको विफलता के सिवा कुछ नहीं मिल सकता है और अभी भी दोनों पक्ष विवादित सीमा क्षेत्रों में आक्रामक मुद्रा में हैं.

 

तनाव कम होता नज़र नहीं आ रहा

लद्दाख और उत्तरी सिक्किम सीमा पर भारत और चीन की सैन्य तैनाती पिछले दो सप्ताह में लगातार बढ़ी है. प्रशासनिक सूत्र बताते हैं कि तनाव कम होने की संभावना नज़र नहीं आ रही है और दोनों देशों के सैनिक आक्रामक तेवर अपनाये हुए हैं.

गलवान घाटी में सड़क निर्माण है समस्या की जड़ 

इस समस्या की जड़ गलवान घाटी में सड़क निर्माण से जुड़ी हुई है. भारत के द्वारा गलवान घाटी में किया जा रहा सड़क निर्माण चीन को पसंद नहीं आया और उसने आपत्ति जताने के साथ ही अपने सैनकों की संख्या में इजाफा कर दिया. इसकी प्रतिक्रिया में भारत को अपनी सैन्य तैनाती बढ़ानी पड़ी.

पांच और नौ मई को हो चुकी हैं तीखी सैन्य झड़पें

यद्यपि भारत और चीन के राजनयिक चैनल भी अपेक्षा कर रहे हैं कि बातचीत के माध्यम से तनाव को कम किया जा सके. किन्तु जिस तरह चीन ने सीमा पर तनाव बढ़ाया है उसी तरह उसने पिछले बीस दिनों में दो बार भारत के साथ सैन्य झड़पों की कोशिश भी की हैं. पांच मई को हुई झड़प में लाठी डंडे ले कर चीनी सैनिकों ने भारतीय सैनिकों पर हमला किया था जिसका जवाब भारतीय सैनिकों ने भी दिया. इस हमले में ढाई सौ के करीब सैनिक दोनों तरफ से घायल हुए थे.

ये भी पढ़ें. क्या हुआ था पाकिस्तानी प्लेन के भीतर क्रैश से पहले