• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 2,76,685 और अबतक कुल केस- 7,93,802: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 4,95,513 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 21,604 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 62.08% से बेहतर होकर 62.42% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 19,135 मरीज ठीक हुए
  • पिछले 24 घंटे में कोविड-19 के 19,135 मरीज ठीक हो चुके हैं, ठीक हुए लोगों और सक्रिय मामलों के बीच का अंतर 2 लाख से अधिक है
  • भारत में प्रति मिलियन आबादी पर कोविड-19 के सबसे कम 538 मामले हैं जबकि वैश्विक औसत 1497 हैं
  • MoHFW ने कोविड-19 के हल्के मामलों में HCQ का उपयोग करने की सिफारिश की और गंभीर रोगियों को इसके सेवन से बचने की सलाह दी
  • एएसआई के स्मारकों में फ़िल्म शूटिंग करने के लिए 15 दिन के अंदर मिलेगी इजाजत
  • 750 मेगावाट की रीवा सौर परियोजना से हर साल करीब 15 लाख टन CO2 बराबर कार्बन उत्सर्जन में कमी आएगी, PM राष्ट्र को करेंगे समर्पित
  • मंत्रालय एक राष्ट्र-एक राशन कार्ड योजना को जनवरी 2021 तक शेष सभी राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में लागू करने के लिए प्रयासरत है
  • MHRD: विज्ञान, तकनीक और कानून आदि जैसे विषयों पर प्राथमिक से PG तक की गुणवत्ता वाली सामग्री विभिन्न प्रारूपों में उपलब्ध है

''इंटरपोल मदद करो, ट्रम्प को अंदर करो !''

ये मांग की है ईरान ने और इंटरपोल से कहा है कि ईरान के पूर्व सर्वोच्च कमांडर सुलेमानी की हत्या के लिए ट्रम्प को दोषी ठहराते हुए उससे मांग की है कि अमेरिका के राष्ट्रपति को गिरफ्तार किया जाए!  

''इंटरपोल मदद करो, ट्रम्प को अंदर करो !''

नई दिल्ली.  ईरान की ये एक औपचारिक कोशिश है जिसका नतीजा ईरान को पता है लेकिन ईरान की इस मांग से जो छुपा हुआ संदेश है वह अमेरिकी राष्ट्रपति के पास पहुंच गया है. और संदेश ये है कि ईरान सुलेमानी की अमेरिकी हमले में हुई मौत को अब तक भुला नहीं सका है.  

 

ईरान ने जारी किया वारंट 

ईरान की यह कोशिश अरण्यरोदन से अधिक नहीं है. जानते हुए भी कि फर्क कुछ नहीं पड़ना है, ईरान धूल में लट्ठ मारने पर तुला हुआ है. ईरान ने सुलेमानी की मौत के लिए अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को जिम्मेदार करार देते हुए उनकी गिरफ्तारी का वारंट जारी कर दिया है. इतना ही नहीं ईरान ने ट्रम्प को हिरासत में लेने के लिए इंटरपोल से भी मांगी है मदद. 

जनवरी में उड़ा दिया था सुलेमानी को  

ईरान ने अमेरिकी राष्ट्रपति के खिलाफ ये कदम यूं ही नहीं उठा लिया है, इसकी इसी साल की शुरुआत में जनवरी में अमेरिका द्वारा किया गया ड्रोन हमला था जो कि बगदाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट के पास हुआ था और इसमें ईरान की कुद्स सेना के प्रमुख जनरल कासिम सुलेमानी की मौत हो गई थी.

ट्रम्प के अलावा तीस और लोग जिम्मेदार 

सुलेमानी की मौत के लिए ईरान ने डोनाल्ड ट्रम्प के अलावा तीस और लोग जिम्मेदार ठहराया है. तेहरान के प्रॉसिक्यूटर अली अलकासिमेहर ने मीडिया को जानकारी दी कि जनवरी के पहले हफ्ते में सुलेमानी पर हुए अमेरिकी ड्रोन अटैक में राष्ट्रपति ट्रम्प के अलावा ईरान के ही 30 और लोग भी शामिल थे. हत्या और आतंक फैलाने के इन सभी आरोपियों के साथ ईरान ट्रम्प को भी गिरफ्तार करने की कोशिशें बंद नहीं करेगा.

ये भी पढ़ें. समन्दर में भी तोड़ेंगे चीनियों के दांत