close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'बगदादी वध' की पूरी कहानी! सिर्फ यहां

इंसानियत के गुनहगार आतंकी सरगना अबू बकर अल-बगदादी को मार गिराया गया है. लेकिन इस अहम कारनामे के पीछे कई फैक्टर थे. आईए आपको बताते हैं कि कैसे हुआ दुनिया के इस मोस्ट वांटेड आतंकी सरगना का खात्मा-

'बगदादी वध' की पूरी कहानी! सिर्फ यहां

नई दिल्ली: खूंखार आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (IS) का सरगना अबु बकर अल-बगदादी मारा जा चुका है. सीरिया और इराक के एक बड़े हिस्से में कभी राज करने वाले बगदादी ने दुनियाभर में अपना प्रभाव बढ़ाने की कोशिश की थी. लेकिन अमेरिका ने इराक में उसकी कब्र खोद डाली.

अमेरिका ने कुत्ते की मौत मारा

5 साल पहले बगदादी ने अपने जिस साम्राज्य को दुनियाभर में फैलाने के सपने पाल रखे थे. उसका खात्मा कर अमेरिका ने पूरी दुनिया को बड़ा संदेश दे दिया है. उसे आतंक का सबसे खूंखार दानव कहा जाता था. उसकी हैवानियत के न जाने कितने किस्से मशहूर हैं. अमेरिकी सेना और राष्ट्रपति डोनॉल्ड ट्रंप ने खुद सामने आकर पुख्ता तौर पर ये बताया कि बगदादी कुत्ते की मौत मारा गया. लेकिन आतंक के आका बगदादी का द एंड कैसे हुआ वो जानना भी काफी जरूरी है. अमेरिका ने इस ऑपरेशन का नाम 'मिशन अब्लीटरेशन' और बगदादी का कोडनेम 'जैकपॉट' रखा था.

डोनाल्ड ट्रंप ने देखा LIVE खात्मा

शनिवार को जब भारत दिवाली के जश्न की तैयारियों में जुटा हुआ था, उस वक्त अमेरिका की स्पेशल फोर्स आतंक के सबसे बड़े आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट के आका अबु बकर अल-बगदादी को जहन्नुम भेजने की तैयारी कर रहा था. अमेरिका के वॉशिंगटन में मौजूद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप शनिवार की शाम 5 बजे (अमेरिका के समयानुसार) व्हाइट हाउस के सिचुएशन रूम में पहुंचते हैं. 

ट्रंप की इस गतिविधि के बाद व्हाइट हाउस में अचानक हलचल तेज हो जाती है. प्रेसिडेंट ट्रंप के साथ कई अमेरिकी जनरल और उपराष्ट्रपति माइक पेंस भी मौजूद थे. सभी ने अपनी-अपनी कुर्सी संभाल रखी थी, कि इतने में ही सामने के स्क्रीन पर रीयल टाइम में वीडियो दिखने लगा. ये वीडियो उस ऑपरेशन का LIVE टेलिकास्ट था, जो सीरिया में अमेरिकी सेना की स्पेशल फोर्स अंजाम दे रही थी. जिस वक्त अमेरिकी सेना इस ऑपरेशन को अंजाम दे रही थी, उस वक्त राष्ट्रपति ट्रंप खुद बगदादी के खिलाफ यूएस फोर्सेज के ऑपरेशन को किसी फिल्म की तरह टीवी पर लाइव देख रहे थे.

ऑपरेशन का पूरा घटनाक्रम

जगह- इराक का एयरबेस

राष्ट्रपति ट्रंप की कमांड मिलते ही इराक के एयरबेस से फर्स्ट स्पेशल फोर्सेज ऑपरेशनल कमांडो 8 लड़ाकू हेलिकॉप्टरों पर सवार होते हैं. और उत्तर-पश्चिम सीरिया के इदलिब प्रांत के गांव बरिशा पहुंचे. यह इलाका जेहादी विद्रोही ग्रुप हयात तहरीर अल-शाम के कब्जे में था. अमेरिका को पक्की खबर थी कि बगदादी यहीं पर छिपा हुआ है.

पहले बगदादी के छुटपुटिये आतंकियों के ठिकाने लगाया

रात में इस खतरनाक ऑपरेशन को अंजाम तक पहुंचाने के लिए एलीट डेल्टा फोर्स कमांडोज ने पुख्ता तैयारी की थी. ठीक वैसे ही जैसे पाकिस्तान के ऐबटाबाद में लादेन के खात्मे का पूरा प्लान बनाया गया था. बगदादी को ठिकाने लगाने के लिए 1 घंटे 10 मिनट बाद बेहद जोखिम भरा टारगेट करीब नजर आने लगता है. जैसे ही डेल्टा फोर्स कमांडोज टारगेट के करीब पहुंचते हैं. उन पर बगदादी के लड़ाके फायरिंग शुरू कर देते हैं. लेकिन अमेरिकी सेना के कमांडोज ने पलक झपकते ही अपनी मशीन गन से सभी गनफायर को खामोश कर दिया.

दीवार तोड़कर बनाया रास्ता

कमांडोज एक कंपाउंड के पास पहुंचकर धमाके से दीवार में एक बड़ा रास्ता बनाते हैं. कमांडोज मुख्य दरवाजे वाले रास्ते को नहीं चुनते हैं क्योंकि वहां खतरा ज्यादा हो सकता था. इस ऑपरेशन में अमेरिकी सेना के साथ एक रोबोट भी था. अमेरिकी कमांडोज और आतंकियों के बीच आमने-सामने से फायरिंग शुरू हो जाती है.

अमेरिकी राष्ट्रपति ने मीडिया से बात करते हुए ये भी जानकारी दी कि आतंकियों को ढेर करने के बाद अमेरिकी कमांडोज आगे बढ़ते हैं. और 11 बच्चे घर से सुरक्षित बाहर निकलते हैं, जबकि बगदादी की दो पत्नियां आत्मघाती जैकेट के साथ मिलती हैं. लेकिन जैकेट के ब्लास्ट होने से पहले ही उन्हें गोली मारकर जहन्नुम की सैर के लिए भेज दिया गया. इसी दौरान बगदादी चकमा देकर एक सुरंग की ओर भागता है. अपने साथ तीन बच्चों को भी ले जाता है.

अमेरिका की इस कार्रवाई के बाद बगदादी इस बात को अच्छी तरह से समझ चुका था कि उसका अंत अब आ चुका है और उसकी मौत तय है. भगोड़े बगदादी का डेल्टा फोर्सेज और K-9 डॉग यूनिट्स उसके पीछा करते हैं. 

रोता-चिल्लाता रहा बगदादी

रास्ते भर बगदादी के रोने और चिल्लाने की आवाज आती रहती है. अमेरिकी सेना के डॉग उनका लगातार पीछा करते हैं. भागते-भागते जब बगदादी सुरंग के आखिर में पहुंचता है. इसी बीच बगदादी अपने आत्मघाती जैकेट से धमाका कर देता है. इसके बाद बगदादी और उसके तीन बच्चे भी मारे जाते हैं.

DNA टेस्ट से हुई मौत की पुष्टि

कुछ ही मिनटों बाद DNA टेस्ट से बगदादी के मारे जाने की पुष्टि होती है. बगदादी उसके साथियों का कोई नामोनिशां ना बचे, इसके लिए अमेरिकी डेल्टा फोर्स के कमांडोज कंपाउड को पूरी तरह से नष्ट करने से पहले कई खुफिया सामग्री भी जुटाते हैं. कुछ समय बाद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पहले एक ट्वीट कर सस्पेंस पैदा करते हैं कि कुछ बड़ा होने वाला है. और फिर कुछ घंटे बाद मीडिया के सामने आकर ट्रंप दुनिया को बताते हैं कि आतंक का आका बगदादी ढेर हो चुका है.

रूस, तुर्की, कुर्द, इजरायल और सीरिया आए साथ

अमेरिकी राष्ट्रपति ने इस बात की भी पुष्टि की है कि इस ऑपरेशन को अंजाम देने के लिए रूस, तुर्की, कुर्द, इजरायल और सीरिया ने साथ आकर मदद की. जानकारी के मुताबिक अमेरिकी हेलिकॉप्टर तुर्की के ऊपर से उड़ते गुए गुजरे थे. इसके अलावा वह उन इलाकों से भी होकर गुजरें जहां रूसी और सीरियाई सेना का कंट्रोल है. ट्रंप ने बताया कि इन सभी देशों ने मदद की. इसके अलावा कुर्द और इजरायल ने बगदादी के बारे में पुख्ता इनपुट मुहैया कराया.

नीचे सुने ट्रंप का पूरा बयान