घर में नहीं दाने, पाक चला ईरान और अमेरिका को समझाने

एक कहावत बहुत प्रचलित है 'घर में नहीं दाने अम्मा चलीं भुनाने'. ये कहावत पाकिस्तान पर बिल्कुल सटीक बैठती है. पाकिस्तान के बड़बोले विदेश मंत्री ने ऐसी बात कही है जिससे पूरी दुनिया पाकिस्तान पर हंस रही है.

घर में नहीं दाने, पाक चला ईरान और अमेरिका को समझाने

दिल्ली: पूरी दुनिया में इस समय ईरान और अमेरिका के बीच चल रहे तानव की चर्चा है. इस बीच पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने ऐसी बात कर दी है जिससे पूरी दुनिया में पाकिस्तान की हंसी हो रही है. उन्होंने कहा कि ईरान और अमेरिका के बीच शांति स्थापित करने के लिये वो पहल करेंगे. उनकी इस बात से ये कहावत चरितार्थ हो रही है कि 'घर में नहीं दाने अम्मा चलीं भुनाने.' बता दें कि पाकिस्तान इस समय खुद बहुत बुरी स्थिति से गुजर रहा है.

अल्पसंख्यकों पर अत्याचार को लेकर बदनाम है पाक

पाकिस्तान स्थित ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर पहले पत्थरबाजी कांड सामने आया. जिसके बाद पाकिस्तान की खूब जगहंसाई हो रही है. और अब पाकिस्तान का रक्त चरित्र पूरी दुनिया के सामने आ चुका है. पाकिस्तान में एक सिख युवक की हत्या की वारदात सामने आई है. पूरी दुनिया में पाकिस्तान के सरकार की निंदा हो रही है. लोग कह रहे हैं कि पाकिस्तान अल्पसंख्यकों के लिये जहन्नुम बन गया है.

ईरान और अमेरिका में युद्ध जैसे हालात

अमेरिका ने इराक की राजधानी बगदाद में एयरपोर्ट पर एयर स्ट्राइक करके ईरान के रेवोल्यूशनरी गार्ड्स कमांडर मेजर जनरल कासिम सुलेमानी को मार गिराया था. हमले के बाद ईरान ने अमेरिका को अंजाम भुगतने की धमकी दी है. इसी बीच अमेरिका ने अपने नागरिकों को तुरंत इराक छोड़ने के लिए कहा.  इस घटना से दोनों देशों में युद्ध जैसे हालात बन गये हैं. 

कासिम सुलेमानी की तलाश कर रहा था अमेरिका

आपको बता दें कि अमेरिका लम्बे समय से कासिम सुलेमानी की तलाश कर रहा था. सुलेमानी पर अमेरिकी दूतावास पर हमला करने की साजिश रचने का आरोप था. अमेरिका का मानना है कि जनरल सुलेमानी और उसकी कुद्स सेना सैकड़ों अमेरिकियों की मौत के लिए जिम्मेदार है. 

बदला लेना चाहता है ईरान

इस हमले के बाद अमेरिका और ईरान में तनाव बढ़ गया है. ईरानी राष्ट्रपति हसन रुहानी ने ट्वीट कर लिखा है कि जनरल कासिम सुलेमानी ने उग्रवाद के खिलाफ जो लड़ाई का झंडा उठाया था, उसे बुलंद ही रखा जाएगा. अमेरिका के द्वारा जो ज्यादतियां की जा रही हैं, उसका बदला जरूर लिया जाएगा. 

ये भी पढ़ें- पाकिस्तान का दोहरा चरित्र! ननकाना साहिब पर 'माफी ड्रामा'