close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

PM मोदी के सऊदी दौरे से बिलबिलाया पाक! दोनों देशों की नजदीकी के 12 अहम सबूत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सऊदी दौरे के बाद पाकिस्तान का दर्द सामने आने लगा है. पीएम के इस दौरे में सऊदी और भारत के बीच की नजदीकियां बढ़ती दिख रही हैं, जिससे पाक जल-भुन गया है. इस दौरे में क्या-क्या खास रहा, आइए समझते हैं-

PM मोदी के सऊदी दौरे से बिलबिलाया पाक! दोनों देशों की नजदीकी के 12 अहम सबूत

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सऊदी अरब दौरा खत्म हो चुका है, लेकिन पीएम के इस दौरे में भारत और सऊदी के बीच कई अहम मुद्दों पर समझौता हुआ. इन समझौतों को पीएम मोदी ने ऐतिहासिक करार दिया है. दोनों देशों ने कई प्रमुख क्षेत्रों में 12 समझौता और ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए. जिससे पाकिस्तान बिलबिला उठा है. दोनों देशों की नजदीकियों को बढ़ा देश पड़ोसी मुल्क पाक झटपटाने लगा है.

समझौते में क्या है अहम?

पीएम मोदी के इस दौरे के दौरान भारत और सऊदी अरब के बीच कई महत्वपूर्ण समझौतों पर हस्ताक्षर हुए. इनमें स्ट्रैटजिक पार्टनरशिप काउंसिल पर एमओयू, एनर्जी सेक्टर में डील्स, भारत के नैशनल इन्फ्रास्ट्रक्चर ऐंड इनवेस्टमेंट फंड में सऊदी निवेश और सिक्यॉरिटी में आपसी सहयोग बढ़ाना शामिल है. सऊदी अरब में रुपे कार्ड के लॉन्च के साथ दोनों देशों के लोगों के बीच संपर्क बढ़ाने की भी योजना है. रुपे कार्ड सऊदी अरब में बड़ी संख्या में मौजूद भारतीय समुदाय के साथ ही हज पर जाने वाले यात्रियों के लिए भी उपयोगी होगा. भारत के ई-माइग्रेट और सऊदी अरब के पोर्टल के बीच माइग्रेशन की शुरुआत भी की जाएगी. इससे सऊदी अरब में नौकरी कर रहे भारतीयों के लिए रोजगार की शर्तों को बेहतर बनाने में मदद मिलेगी.

भारत-सऊदी के बीच प्रमुख 12 MoU की सूची

1).

2).

पीएम मोदी ने सऊदी अरब के शाह सलमान बिन अब्दुल अजीज से मुलाकात की. प्रधानमंत्री ने अपने दौरे में सऊदी के किंग सलमान, क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के साथ द्विपक्षीय वार्ता भी की. इस दौरान दोनों देशों के संबंधों को और मजबूत करने पर भी बातचीत हुई. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने इस दौरे में रियाद में फ्यूचर इन्वेस्टमेंट इनिशियेटिव (FII) को संबोधित किया. इस कार्यक्रम में भी पीएम मोदी का जोर निवेश पर रहा. पीएम मोदी ने सऊदी अरब से इन्फ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में भी निवेश बढ़ाने को लेकर अपनी बात रखी.

इसलिए भी अहम रहा ये दौरा

कश्मीर को लेकर पाकिस्तान के दुष्प्रचार और परमाणु युद्ध की धमकी के मद्देनजर भी मोदी का सऊदी दौरा बहुत महत्वपूर्ण है. जम्मू और कश्मीर में आर्टिकल 370 को खत्म करने के भारत के फैसले पर सऊदी अरब का रवैया तटस्थ रहा है. हालांकि पाकिस्तान ने मुस्लिम देशों को भारत के खिलाफ उकसाने की पूरी कोशिश की थी. ये अलग बात है कि इमरान की इन दलीलों पर सउदी समेत किसी भी देश ने तवज्जो नहीं दी. सऊदी अरब ने भारत के रुख का समर्थन करते हुए कश्मीर को आतंरिक मुद्दा माना है और इसमें दखल देने से इनकार कर दिया था. पाकिस्तान इसी के बाद से बौखलाया हुआ है. उसकी बेचैनी इस बात को लेकर भी ज्यादा है कि पीएम मोदी सऊदी के किंग और सऊदी के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान से मुलाकात की. और इस दौरान पीएम ने तमाम अहम मुद्दों के अलावा आतंकवाद पर भी बात उठाई. 

इस पूरे दौरे के कुछ अहम पहलु को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोशल मीडिया पर भी साझा किया. 

फरवरी में जताई गई थी सहमति

सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के फरवरी में भारत दौरे के दौरान दोनों देशों ने स्ट्रैटेजिक पार्टनरशिप काउंसिल स्थापित करने पर सहमति जताई थी. पीएम मोदी के दौरे के दौरान इससे जुड़े एग्रीमेंट पर भी हस्ताक्षर किए गए. भारत और सऊदी अरब डिफेंस इंडस्ट्री में आपसी सहयोग बढ़ाना चाहते हैं. भारत ने हाल ही में सऊदी अरब की मिलिट्री इंडस्ट्री से जुड़े अधिकारियों की मेजबानी की थी और इसके बाद भारतीय डिफेंस कंपनियों का एक प्रतिनिधिमंडल सऊदी अरब गया था. दोनों देशों की नौसेनाओं के बीच जल्द ही संयुक्त अभ्यास भी होना है. ऐसे में भारत-सऊदी के बीच हस्ताक्षर हुए इन समझौतों में इसकी झलक देखी जा सकती है.

नीचे सुने प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी का पूरा संबोधन