• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 5,95,501 और अबतक कुल केस- 19,64,537: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 13,28,337 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 40,699 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 67.15% से बेहतर होकर 67.62% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 51,706 मरीज ठीक हुए
  • गोवा MyGov के जनभागीदारी मंच में शामिल हुआ. सरकार के साथ अपनी राय, विचार और सुझाव साझा करने के लिए नागरिक रजिस्टर करें
  • कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में दिल्ली पुलिस की मदद करने के लिए 'कोरोना क्लीनर' का विकास
  • IIT दिल्ली के स्नातकों ने यूवी विकिरण का उपयोग करके 'कोरोना क्लीनर' का विकास किया
  • 74वें स्वंतत्रता दिवस का जश्न सेना, नौसेना और भारतीय वायु सेना के बैंड की संगीतमय प्रस्तुति के साथ मनाया जा रहा है
  • प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना चरण-1 : अप्रैल 2020 से जून 2020
  • राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों ने एनएफएसए लाभार्थियों के बीच अप्रैल-जून 2020 की अवधि के लिए आवंटित खाद्यान्न का 93.5% वितरित किय
  • भारतीय रेलवे द्वारा अयोध्या स्टेशन को राम मंदिर के मॉडल के तर्ज विकसित किया जाएगा

टल सकते हैं अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव

 इस वर्ष के अंत में होने वाले अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव के टलने की  संभावना इस कारण भी बढ़ जाती है क्योंकि ऐसा खुद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प चाहते हैं..

 टल सकते हैं अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव

नई दिल्ली.   हालांकि ऐसा सोचना राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के डर को भी जताता है क्योंकि वे अपने पिछले कुछ बयानों में अपरोक्ष रूप से अपनी पराजय की आशंका को दोहरा चुके हैं. लेकिन वे ये  भी जानते हैं कि चुनाव को टाल कर वे अपनी पराजय को नहीं टाल सकते. 

 

'हो सकती है वोटिंग में गड़बड़ी'

वर्तमान अमेरिकी डोनाल्ड ट्रंप राष्ट्रपति चुनाव टालने का मन बना चुके हैं और इसके लिए जो औपचारिक  सुझाव उन्होंने अमेरिका में दिया है उसमें उन्होंने इसके पीछे वोटिंग में गड़बड़ी की आशंका जताई है. यही कारण है कि चुनाव को आगे बढ़ाने की बात को समर्थन मिलने की संभावना कम है. इसकी संभावना अधिक नहीं है कि चुनाव में गड़बड़ी की आशंका को चुनाव को आगे बढ़ाने का पर्याप्त कारण माना जाये.

'हो सकती है धोखाधड़ी'

आज से चौथे महीने में अर्थात नवंबर में होने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति पद के चुनावों को टालने की अपनी मंशा को लेकर वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप लंगड़े बहाने बना रहे हैं.  ट्रम्प ने इसकी पीछे धोखाधड़ी को कारण बताया है.  उन कहना है कि चूंकि इन चुनावों में मेल इन सिस्टम से वोटिंग होनी है, ऐसी स्थिति में ये चुनाव इस देश के इतिहास के सबसे झूठे और अनुचित चुनाव होंगे क्योंकि इनमें वोटिंग में धोखाधड़ी की पूरी आशंका है. 

'सुरक्षा की स्थिति में ही चुनाव हों'

जो राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चाहते हैं यदि वैसा हो गया तो डोनाल्ड ट्रम्प का यह कार्यकाल भी अमेरिका के इतिहास सबसे लंबा राष्ट्रपति कार्यकाल होगा. ट्रम्प ने अपने ट्वीट में कहा है कि वैश्विक मेल इन वोटिंग को अगर 2020 के चुनाव का वोटिंग सिस्टम बनाया गया तो यह अमेरिकी इतिहास का सबसे ज्यादा धोखाधड़ी वाला चुनाव सिद्ध होगा. ऐसे में चुनाव तब ही कराये जाएँ जब अमेरिका के लोग वोटिंग करने की स्थिति में आ जाएँ और सुरक्षित ढंग से वोटिंग कर सकें.

ये भी पढ़ें. पति से दूर हुई तो दौलत भरपूर हुई