नहीं मिला बेड तो घर से उठा लाए चारपाई, अस्पताल के बाहर खड़ी इंतेजार कर रही हैं सैकड़ों एम्बुलेंस

दरअसल अस्पतालों में खाली बैड न होने की सूरत में गुजरात के राजकोट के एक मरीज के परिवार वाले उसके लिए बेड अपने घर से लेकर गए.

नहीं मिला बेड तो घर से उठा लाए चारपाई, अस्पताल के बाहर खड़ी इंतेजार कर रही हैं सैकड़ों एम्बुलेंस

नई दिल्ली: देशभर में कोरोना के मामलों में हर रोज़ तेजी देखने को मिल रही है. इससे अस्पतालों में खाली बेड्स की तादाद ना बराबर बची है. जिस वजह से मरीजों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. अस्पतालों से दिल दहला दने वाली तस्वीरें सामने आ रही है. कुछ ऐसी ही तस्वीरें गुजरात के राजकोट से सामने आई हैं. इन तस्वीरों को देखकर कोई भी अस्पतालों की हालत का अंदाजा लगा सकता है. 

दरअसल अस्पतालों में खाली बैड न होने की सूरत में गुजरात के राजकोट के एक मरीज के परिवार वाले उसके लिए अपने घर से बेड लाने को मजबूर हो गए. जानकारी के मुताबिक शहर के चौधरी हाई स्कूल के मैदान में अस्पताल भर्ती होने का इंतेजार कर रहे परिवार वालों के मरीज के परिवार वालों को अपने स्तर पर ही इलाज कराना पड़ रहा है. यहां तक कि एक मरीज को अस्पताल की तरफ से बेड नहीं मिलने पर मरीज के परिवार वाले घर से ही चारपाई उठा लाए.

यह भी पढ़ें: मास्क नहीं पहनने पर रोका तो पुलिस से भिड़ गए पति-पत्नी, महिला बोली- मैं किस भी करूंगी, देखिए VIDEO

बताया जा रहा है कि मंगलवार की सुबह से सिविल अस्पताल के बाहर 100 से ज्यादा एम्बुलेंस और प्राइवेट गाड़ियां देखी गईं और सैंकड़ों मरीजों को भर्ती कराने के लिए उनके परिवार वाले रात से ही लाइनों में लगे हैं. न सिर्फ अस्पतालों में बेड की किल्लत है बल्कि एम्बुलेंस भी बहुत कम मिल पा रही हैं. बताया जा रहा है कि कई ऐसे मरीजों का इलाज एम्बुलेंस में ही किया जा रहा है जिन्हें ऑक्सीजन की जरूरत है. 

जिन मरीजों को अस्पताल पहुंचने के लिए एम्बुलेंस नहीं मिल रही वो लोग अपने प्राइवेट संसाधन, जैसे ऑटो, कैब वगैरह से अस्पातल पहुंच रहे हैं. एक खबर के मुताबिक एक मरीज के परिवार वाले ने बताया कि अस्पताल में बेड नहीं है और मरीज को ज्यादा देर ऑटो में नहीं बिठाया जा सकता था इसलिए उन्हें अपने घर से ही बेड लाना पड़ा. 

यह भी पढ़ें: Railway में निकली बंपर भर्ती, 10वीं पास भी कर सकते हैं अप्लाई, बिना एग्जाम होगा सलेक्शन

ZEE SALAAM LIVE TV