सियासत में आने से पहले मैथ पढ़ाते थे रघुवंश प्रसाद सिंह, कई बार जेल भी गए

साल 1973 में  संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के आंदोलन के दौरान भी वह जेल गए. साल 1974 के जेपी आंदोलन में रघुवंश प्रसाद सिंह ने हिस्सा लिया. इस वक्त मरकज़ और बिहार में कांग्रेस पार्टी हुकूमत थी.

सियासत में आने से पहले मैथ पढ़ाते थे रघुवंश प्रसाद सिंह, कई बार जेल भी गए
फाइल फोटो

नई दिल्ली: साबिक मरकज़ी वज़ीर रघुवंश प्रसाद सिंह का इतवार के रोज़ 74 साल की उम्र में दिल्ली एम्स में इंतेकाल हो गया. सांस लेने में तकलीफ होने के बाद उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया था.  रघुवंश राष्ट्रीय जनता दल के चीफ लालू प्रसाद यादव के करीबी नेताओं में से एक थे और उन्होंने हाल ही में राजद से इस्तीफा दिया था. जानकारी के मुताबिक 10 सितंबर को उन्होंने अस्पताल के बेड से ही राजद प्रमुख लालू यादव को इस्तीफा भेज था.

सियासत में आने से पहले मैथ पढ़ाते थे
रघुवंश प्रसाद सिंह सियासत में आने से पहले मैथ (गणित) पढ़ाते थे. बिहार यूनिवर्सिटी से उन्होंने डॉक्टरेट की डिग्री ली और साल 1969 से 1974 तक सीतामढ़ी के गोयनका कॉलेज में प्रोफेसर के तौर काम करते रहे. मैथ के प्रोफेसर डॉ. रघुवंश प्रसाद सिंह नौकरी के तहरीक (आंदोलन) में सरगरम रहे और कई बार जेल भी गए. पहली बार 1970 में रघुवंश प्रसाद शिक्षक आंदोलन के दौरान जेल गए.

साल 1973 में  संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के आंदोलन के दौरान भी वह जेल गए. साल 1974 के जेपी आंदोलन में रघुवंश प्रसाद सिंह ने हिस्सा लिया. इस वक्त मरकज़ और बिहार में कांग्रेस पार्टी हुकूमत थी. बिहार हुकूमत ने जेल में बंद रघुवंश प्रसाद सिंह को प्रोफेसर के ओहदे से बर्खास्त कर दिया. इस बाद रघुवंश प्रसाद सिंह ने दोबारा पीछे मुड़कर नहीं देखा और कर्पूरी ठाकुर, जय प्रकाश नारायण के रास्ते पर चल पड़े.

Zee Salaam LIVE TV