बांग्लादेश के मौलाना ने Facebook की 'हा हा' इमोजी को बताया 'हराम', दी यह दलील

मौलाना अहमदुल्लाह के लाखों की तादाद में फोलोअर्स हैं. इसके अलावा वो टीवी पर धार्मिक विषयों पर भी बात करते दिखाई देते रहते हैं.

बांग्लादेश के मौलाना ने Facebook की 'हा हा' इमोजी को बताया 'हराम', दी यह दलील
File PHOTO

नई दिल्ली: सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक (Facebook) दुनिया की सबसे मशहूर प्लेटफॉर्म्स में से एक है. आप भी इसकी जरिए किसी से बात करते होंगे तो अक्सर कई तरह के इमोजी का इस्तेमाल करते होंगे. कई बार आपको हंसने वाले इमोजी का इस्तेमाल करना पड़ता होगा, तो कई बार किसी अन्य तरह के इमोजी का. इन इमोजी के ज़रिए हम आसानी से अपने हाव-भाव किसी दूसरे व्यक्ति को बता सकते हैं, लेकिन हंसने वाले इमोजी को लेकर बंग्लादेश के एक मौलाना ने फतवा जारी करते हुए इसे हराम करार दिया है.

एक खबर के मुताबिक ढाका ट्रिब्यून ने बताया कि यह फतवा बांग्लादेश के मौलाना अहमदुल्लाह ने जारी किया है. जो अक्सर फेसबुक और यूट्यूब पर अपने इस्लामी भाषण पोस्ट करते हैं. मौलाना अहमदुल्लाह के लाखों की तादाद में फोलोअर्स हैं. इसके अलावा वो टीवी पर धार्मिक विषयों पर बात करते दिखाई देते रहते हैं. 

यह भी देखिए: WTC FINAL: न्यूजीलैंड से करारी हार के बाद Virat Kohli ने बनाया यह बड़ा बहाना

हाल ही में मौलाना ने फेसबुक पर एक वीडियो शेयर किया है. जिसमें वो "हा हा" (हंसना वाले इमोजी) के खिलाफ फतवा दे रहे हैं. मौलाना ने दलील दी है कि अगर हंसी के लिए "हा हा" वाला इमोजी किसी दूसरे शख्स को भेजते हैं और वो भी इस इमोजी को उसी तरह समझता है जिस तरह आपने भेजा है तो कोई दिक्कत नहीं है. 

मौलाना ने कहा कि अगर आपका हंसने वाला रिएक्शन लोगों की मजाक उड़ाने के मकसद से दिया गया है तो यह इस्लाम में हराम है. मौलाना ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि अल्लाह के लिए आप अपने आपको ऐसा करने से रोकें. लोगों की मजाक उड़ाने के मकसद "हा हा" इमोजी का इस्तेमाल न करें. 

ZEE SALAAM LIVE TV