कटोरा लेकर दुबई पहुंचे इमरान खान, राहत पैकेज को लेकर IMF चीफ से होगी मुलाकात

IMF पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को सही रास्ते पर लाने के लिये कुछ सुधारात्मक कदम उठाने की शर्त रख रहा है.

कटोरा लेकर दुबई पहुंचे इमरान खान, राहत पैकेज को लेकर IMF चीफ से होगी मुलाकात
IMF से बातचीत में पाकिस्तान के खर्च को लेकर भी रोड़ा अटक रहा है. (फाइल)

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान राहत (बेलआउट) पैकेज की शर्तों पर चर्चा के लिये रविवार को दुबई में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की प्रमुख क्रिस्टीन लगार्ड से मुलाकात करेंगे. खान वर्ल्ड गवर्नमेंट समिट के सातवें संस्करण में भाग लेने के लिये संयुक्त अरब अमीरात की एक दिन की यात्रा पर गए हैं. पाकिस्तान के सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने डॉन अखबार से कहा कि खान सम्मेलन से इतर दुबई में लगार्ड से मुलाकात करेंगे. अखबार की रिपोर्ट में एक वरिष्ठ अधिकारी के हवाले से कहा गया है कि लगातार बातचीत के बाद पिछले कुछ सप्ताह में आईएमएफ और पाकिस्तान का रुख संकुचित हुआ है.

आईएमएफ पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को सही रास्ते पर लाने के लिये कुछ सुधारात्मक कदम उठाने की शर्त रख रहा है. वह चाहता है कि पाकिस्तान अगले तीन-चार साल में करीब 1,600-2,000 अरब रुपये का समायोजन करे. बातचीत में पाकिस्तान के खर्च को लेकर भी रोड़ा अटक रहा है.

विदेश से नजदीकियां बढ़ाने में जुटा पाकिस्तान, कतर के बाद इस देश का दौरा करेंगे इमरान खान

बता दें, पिछले दिनों सरकार ने हज सब्सिडी खत्म करने का फैसला किया. इससे पाकिस्तान सरकार के 450 करोड़ रुपये की बचत होगी. पाकिस्तान के धार्मिक एवं आपसी सौहार्द मामलों के मंत्री नूरुल हक कादरी ने यह जानकारी दी. हज सब्सिडी खत्म करने का फैसला हाल में इस्लामाबाद में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की अध्यक्षता वाली संघीय मंत्रिमंडल की बैठक में किया गया, जिससे इस बात पर बहस छिड़ गयी है कि क्या इस्लाम सब्सिडी युक्त हज की इजाजत देता है.

इस साल 184,000 पाकिस्तानी नागरिक हज यात्रा करेंगे
‘द न्यूज’ ने कादरी के हवाले से मंगलवार को कहा, ‘पूर्ववर्ती (पीएमएल-एन) सरकार हर हज यात्री को 42-42 हजार रुपये की सब्सिडी देती थी जिससे राजकोष पर 450 करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ पड़ता था. देश की मौजूदा आर्थिक हालात को ध्यान में रखते हुए संघीय कैबिनेट ने इस सब्सिडी को खत्म करने का फैसला किया है.’