close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जल्द 36 नए रूट्स पर विमान सेवा देगी Spicejet, गुजरात से शुरू होगी सी-प्लेन की सुविधा

इंटरनेशनल फ्लाइट्स की सेवा दो रूट्स पर मिलेगी. पहली, गुवाहटी से बैंकॉक और दूसरी, गुवाहटी से ढाका.

जल्द 36 नए रूट्स पर विमान सेवा देगी Spicejet, गुजरात से शुरू होगी सी-प्लेन की सुविधा
फाइल फोटो.

नई दिल्ली (समीर दीक्षित): सस्ती विमान सेवा देने वाली कंपनी स्पाइसजेट जल्द ही उड़ान-3 स्कीम के तहत 36 नए रूट्स पर विमानों की सेवा शुरू करेगी. इसके अलावा कंपनी जल्द ही असम और गुजरात से सी-प्लेन की सुविधा भी शुरू करेगी. स्पाइसजेट ऐसी पहली एयरलाइन भी बन गई है, जो रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम के तहत इंटरनेशनल फ्लाइट ऑपरेशन शुरू करेगी. इंटरनेशनल फ्लाइट्स की सेवा दो रूट्स पर मिलेगी. पहली, गुवाहटी से बैंकॉक और दूसरी, गुवाहटी से ढाका. जी बिजनेस से खास बातचीत में कंपनी के CMD अजय सिंह ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि जल्द ही सरकार ATF को भी GST में शामिल करेगी. इससे एविएशन सेक्टर को बड़ी राहत मिलेगी. 

विमानों के बेड़े का होगा विस्तार
स्पाइसजेट अपने बेड़े और रूट्स के विस्तार पर काम कर रही है. कंपनी के CMD अजय सिंह के मुताबिक कंपनी ने 200 विमानों का ऑर्डर दिया है जो 2024 तक आने हैं. इसमें 10 विमान की आपूर्ति दिसंबर 2018 में हो चुकी है, जबकि 50 छोटे विमान उड़ान योजना के तहत चलाए जाएंगे.  

फायदे में है कंपनी
CMD अजय सिंह के मुताबिक स्पाइसजेट पिछली 14-15 तिमाहियों से लाभ में है. केवल पिछली दो-तीन तिमाहियां ही ऐसी रहीं जो थोड़ी मुश्किल भरी थीं, इसकी भी बड़ी वजह तेल कीमतों में बेहताशा वृद्धि होना थी. अगर तेल की कीमतों में सुधार होता है तो हालात फिर बेहतर होंगे. साथ ही कंपनी नई तकनीक पर भी काम कर रही हैं. नए विमानों में ऐसी तकनीक शामिल है जो 15-20 प्रतिशत ईंधन की बचत करती है. 

उड़ान योजना के तहत 235 नए हवाई मार्गों को मंजूरी
सरकार ने उड़ान के तीसरे चरण में 235 नए हवाई मार्ग शुरू करने की मंजूरी दी है. इन रूट्स पर स्पाइसजेट, इंडिगो, जेट एयरवेज, एयर इंडिया सहित 11 कंपनियां अपनी हवाई यात्रा शुरू करेगी. योजना के तहत मंत्रालय ने स्पाइसजेट और टर्बो एविएशन को सीप्लेन का परिचालन करने की भी मंजूरी दी है. नागर विमानन मंत्री सुरेश प्रभु के मुताबिक इन नए मार्गों पर 69.30 लाख सीट जुड़ेंगी. इनमें से एक लाख से अधिक सीटें सीप्लेन के जरिए जुड़ेंगी.