IRDAI का हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियों को निर्देश, एक स्टैंडर्ड हेल्थ प्रोडक्ट तैयार करे

 IRDAI का मकसद हेल्थ इंश्योरेंस की जटिलताओं को दूर करना है. नए स्टैंडर्ड प्रोडक्ट में सभी तरह का क्लेम विकल्प एक जैसा होगा.

IRDAI का हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियों को निर्देश, एक स्टैंडर्ड हेल्थ प्रोडक्ट तैयार करे
स्टैंडर्ड हेल्थ इंश्योरेंस प्रोडक्ट के फीचर सभी कंपनियों के लिए एक जैसे होंगे.

नई दिल्ली: वर्तमान में हेल्श इंश्योरेंस कंपनियों द्वारा अलग-अलग बीमा कवर दिया जाता है. लेकिन, इंश्योरेंस रेगुलेटर IRDAI ने बीमा कंपनियों को एक स्टैंडर्ड हेल्थ प्रोडक्ट तैयार करने को कहा है. उस प्रोडक्ट में सभी कंपनियों के लिए फीचर एक जैसे होंगे. IRDAI का मकसद हेल्थ इंश्योरेंस की जटिलताओं को दूर करना है. नए स्टैंडर्ड प्रोडक्ट में सभी तरह का क्लेम विकल्प एक जैसा होगा. साथ ही स्टैंडर्ड हेल्थ इंश्योरेंस प्रोडक्ट के फीचर सभी कंपनियों के लिए एक जैसे होंगे.

जानकारी के मुताबिक, नए हेल्थ प्रोडक्ट में 5 लाख तक का बीमा कवर होगा. इससे ग्राहकों को प्रोडक्ट समझने में आसानी होगी और वे अपने लिए सही विकल्प का चयन कर पाएंगे. आयुष्मान भारत में BPL परिवारों को मिलता है कवर. इसमें, ग्राहक किसी भी कंपनी से पॉलिसी कवर लेगा तो फीचर एक समान मिलेगा.

बीमा धारकों के लिए खुशखबरी, कंपनियों को 1 जुलाई से देनी होगी क्‍लेम स्‍टेटस की जानकारी

पिछले दिनों IRDAI ने गाइडलाइन जारी की थी, जिसमें कहा गया था कि इंश्योरेंस कंपनियों द्वारा मिलने वाला क्लेम एक मुश्त होता है. ऐसे में आश्रित कई बार नहीं समझ पाते हैं कि इतनी बड़ी राशि का निवेश किस तरह करना है. क्लेम की राशि कुछ दिनों में खत्म हो जाती है और बाद में उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ता है. ऐसे में दुर्घटना बीमा और बेनिफिट बेस्ड हेल्थ बीमा के क्लेम को किश्तों में भुगतान का विकल्प होने चाहिए.