close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सांसदों की स्वास्थ्य मंत्री को चिट्ठी, जॉनसन एंड जॉनसन पर कार्रवाई की मांग

खराब हिप इम्प्लांट के मामले में 11 सांसदों ने स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा को चिट्ठी लिखी है. चिट्ठी में जॉनसन एंड जॉनसन के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई है.

सांसदों की स्वास्थ्य मंत्री को चिट्ठी, जॉनसन एंड जॉनसन पर कार्रवाई की मांग

ब्रजेश कुमार/ नई दिल्ली : खराब हिप इम्प्लांट के मामले में 11 सांसदों ने स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा को चिट्ठी लिखी है. चिट्ठी में जॉनसन एंड जॉनसन के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई है. सांसदों की तरफ से लिखी गई चिट्ठी में कहा गया कि सरकार ने खराब हिप इम्प्लांट पीड़ितों के लिए मुआवज़ा तय कर अच्छा कदम उठाया है. लेकिन सरकार को जॉनसन एंड जॉनसन के खिलाफ कदम उठाकर ये तय करना चाहिए कि भविष्य में कोई और कंपनी ऐसा काम न करे. साथ ही पीड़ितों के साथ न्याय हो. जिन 11 सांसदों ने चिट्ठी लिखी है उसमें 7 सांसद शिवसेना के हैं.

इन सांसदों ने लिखी चिट्ठी
जिन सांसदों ने चिट्ठी लिखी है उसमें डॉ. धर्मवीर गांधी, करण सिंह यादव, कुंवर हरिवंश सिंह, बीएन चंद्राप्पा, चंद्रकांत खैरे, हेमंत गोडसे, राहुल शेवाले और अरविंद सावंत का नाम है. प्रतापराव जाधव और विनायक राउत ने भी इसी मामले पर जेपी नड्डा को चिट्ठी लिखी है. जॉनसन एंड जॉनसन पर आरोप है कि उसके खराब हिप इम्प्लांट की वजह से मरीजों को दोबारा सर्ज़री करानी पड़ी. जबकि कई मामलों में लोग विकलांगता की स्थिति में पहुंच गए.

सरकार ने इस मामले पर एक समिति बनाई थी जिसने मुआवजे का फॉर्मूला सुझाया था. सरकार की ओर से जारी फॉर्मूले के मुताबिक एक करोड़ 22 लाख रुपये तक का मुआवज़ा पीड़ितों को मिल सकता है. हालांकि फॉर्मूले के हिसाब से कम उम्र और विकलांगता का प्रतिशत ज्यादा होने पर ज्यादा मुआवजा मुमकिन था.