Zomato ने शुरू की महिलाओं और ट्रांसजेंडर्स के लिए ‘पीरियड्स लीव’

भारत की फूड डिलीवरी कंपनी जोमेटो (Zomato) ने इस दिशा में एक नई शुरूआत की है, कंपनी ने अपनी महिला कर्मचारियों को साल में 10 दिन की छुट्टी पीरियड्स के लिए देने का ऐलान किया है.

Zomato ने शुरू की महिलाओं और ट्रांसजेंडर्स के लिए ‘पीरियड्स लीव’
प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली: पीरियड्स यानी मासिक धर्म (Menstrual Cycle) का मुद्दा भारत में एक बड़ा सामाजिक मुद्दा रहा है, भारत की फूड डिलीवरी कंपनी जोमेटो (Zomato) ने इस दिशा में एक नई शुरुआत की है. कंपनी ने अपनी महिला कर्मचारियों को साल में 10 दिन की छुट्टी पीरियड्स के लिए देने का ऐलान किया है.

जोमेटो के संस्थापक और सीईओ दीपिन्दर गोयल ने कहा है कि कंपनी के महिला और ट्रांसजेंडर स्टाफ पीरियड्स के हर मासिक चक्र में एक दिन की छुट्टी के हकदार होंगे. गोयल ने एक ईमेल जवाब, जिसे सार्वजनिक रूप से शेयर किया गया है, में कहा कि, 'पीरियड लीव के लिए आवेदन करने में उससे जुड़ी कोई शर्म नहीं होनी चाहिए. आपको कंपनी के आंतरिक ग्रुप्स या ईमेल में ये लिखने में संकोच नहीं करना चाहिए कि आप पीरियड लीव पर हैं.'

पीरियड्स के दौरान छुट्टी लेने पर अनावश्यक उत्पीड़न और अप्रिय टिप्पणियां पाने वालों से अपील करते हुए जोमेटो सीईओ ने कहा कि, ‘खुल कर बोलिए, ‘सहयोगी संस्कृति’ बनाने के लिए महिलाओं को समर्थन देने की आवश्यकता है.

गोयल ने कहा, ‘मुझे पता है कि बहुत सी महिलाओं को मासिक धर्म से जुड़ा तनाव बहुत दर्दनाक होता है, और अगर हम सही मायने में जोमेटो में सहयोगी संस्कृति विकसित करना चाहते हैं तो हमें उनको समर्थन देना होगा.'

ये भी पढ़ें: छोटे कारोबारियों को आत्मनिर्भर बनाएगा SBI, पैसे की नहीं होगी किल्लत

भारत में मासिक धर्म या पीरियड्स काफी हद तक एक वर्जित विषय बना हुआ है, जिसमें महिलाओं को स्वच्छता और जागरूकता की कमी सहित कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है. ग्रामीण इलाकों मे तो स्थिति और भी ज्यादा खराब है, जहां सेनेटरी नेपकिन्स (Sanitary Pads) तक पहुंच और उपयोग दोनों ही आम नहीं है.