close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पूजा मर्डर केस की गुत्थी सुलझी, बेहद रोचक रही पुलिस की जांच की तरकीब

बेंगलुरु एयरपोर्ट के पास 31 जुलाई को एक महिला का क्षत-विक्षत शव मिला था. हत्यारे तक पहुंचने में पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी. 31 जुलाई को 30 साल की पूजा सिंह डे जो पश्चिम बंगाल की रहने वाली थी, का शव बेंगलुरु एयरपोर्ट के पास एक सुनसान इलाके से मिला था. 

पूजा मर्डर केस की गुत्थी सुलझी, बेहद रोचक रही पुलिस की जांच की तरकीब
कोलकाता से बेंगलुरु आई थी पूजा. तस्वीर साभार- इंस्टाग्राम

बेंगलुरु: जुलाई के अंतिम सप्ताह में एक अज्ञात महिला की रहस्यमय हालात में हुई हत्या के मामले को पुलिस ने सुलझा लिया है. मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है. गिरफ्तार अभियुक्त नागेश एक ओला कैब ड्राइवर है, जिसने लूट के इरादे से हत्या को अंजाम दिया था. 

बेंगलुरु एयरपोर्ट के पास 31 जुलाई को एक महिला का क्षत-विक्षत शव मिला था. हत्यारे तक पहुंचने में पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी. 31 जुलाई को 30 साल की पूजा सिंह डे जो पश्चिम बंगाल की रहने वाली थी, का शव बेंगलुरु एयरपोर्ट के पास एक सुनसान इलाके से मिला था. जांच में पता चला कि पूजा सिंह मॉडलिंग करती थी और इवेंट मैनेजमेंट का काम देखती थी. 

कोलकाता की रहने वाली पूजा सिंह 30 जुलाई को बेंगलुरु आई थी. मीटिंग के बाद उन्होंने ऐप के जरिए होटल जाने के लिए कैब बुक की थीं. इसी कैब ड्राइवर का नाम नागेश था. होटल पहुंचने के बाद पूजा ने कैब ड्राइवर नागेश से यह कहा कि अगले दिन सुबह 4 बजे उनकी दिल्ली की फ्लाइट है क्या नागेश उन्हें ड्रॉप कर सकता है. पूजा की गलती थी कि उन्होंने बिना ऑनलाइन कैब बुक किए नागेश से सीधे संपर्क किया. नागेश ने को लगा कि वह पकड़ा नहीं जाएगा, इसीलिए उसने पूजा को लूटने का प्लान बना लिया.

लाइव टीवी देखें-:

अगले दिन सुबह 4 बजे नागेश पूजा को पिक करने होटल पहुंचा और वहां से एयरपोर्ट के लिए रवाना हो गया. नागेश ने पुलिस को बताया कि पूजा दिखने में काफी अमीर लग रही थी, इसलिए उसने सोचा की पूजा के पास बहुत सारे पैसे होंगे. एयरपोर्ट जाने के रास्ते में दोड्डजाला इलाके के पास नागेश ने अपनी गाड़ी रोकी. पूजा पीछे की सीट पर सो रही थी. 

नागेश ने पहले जैक रॉड से पूजा के सिर पर वार किया. पूजा अचेत हो गई, नागेश कार को सुनसान इलाके में लेकर गया. इसके बाद पूजा के साथ लूटपाट की कोशिश की. इस बीच पूजा को होश आ गया और वह मदद के लिए चिल्लाने लगी, जिससे नागेश डर गया. जैसे ही पूजा वहां से भागने की कोशिश करने लगी नागेश ने चाकू निकालकर पहले पूजा के कमर पर वार किया. इसके बाद चाकू से 22 वार कर पूजा की हत्या कर दी. 

पकड़े जाने के डर से नागेश ने एक बड़ा पत्थर लेकर पूजा के चेहरे को बिगाड़ दिया ताकि शव की शिनाख्त ना हो पाए. जैसे ही पुलिस को इस वारदात की सूचना मिली मौके से पूजा के शव को बरामद किया गया और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया, लेकिन पूजा के शव की शिनाख्त नहीं हो पा रही थी.

पड़ताल में पुलिस ने अपनी जांच पूजा की जींस और टीशर्ट से शुरू की. कोई सिरा ना मिलता देख पुलिस ने पिछले 2 साल में शॉपिंग मॉल्स और ऑनलाइन में उस ब्रांड और उस साइज के कपड़े जिन भी लोगों ने खरीदे थे, उनकी लिस्ट मंगवाई. जांच आगे बढ़ी तो पुलिस को इस बात का अंदाजा हो गया कि पूजा स्थानीय निवासी नहीं है. पश्चिम बंगाल की रहने वाली है, इसीलिए दो टीमों को पश्चिम बंगाल भी भेजा गया. 

पड़ताल के दौरान यह बात सामने आई कि कोलकाता के न्यू टाउन पुलिस स्टेशन में मिसिंग का एक मामला दर्ज है. पुलिस ने पड़ताल की तो पता चला कि यह सूचना बेंगलुरु में मिले अज्ञात शव से मेल खाती है. 

दरअसल, बीपीओ में काम करने वाली पूजा के पति ने कोलकाता न्यू टाउन पुलिस स्टेशन में पत्नी की मिसिंग कंप्लेंट दर्ज करवाई थी. अपनी कंप्लेन में पूजा के पति सुदीप डे ने कहा कि 31 जुलाई से पूजा का फोन स्विच ऑफ आ रहा था, इसलिए उनकी चिंता बढ़ गई थी. उन्होंने पूजा को कई सारे मैसेज भी भेजे थे, 2 दिन बाद मैसेज का रिप्लाई आया, जिसमें कहा गया था कि पूजा ठीक है, लेकिन उसके पास पैसे कम पड़ गए हैं इसलिए उसके अकाउंट में कुछ पैसे डाले जाएं जिस तरह की इंग्लिश इस मैसेज में लिखी हुई थी, उससे सुदीप को शक हो गया और उन्होंने पुलिस की मदद ली.  

बेंगलुरु पुलिस की टीम जब कोलकाता पहुंची तो वहां से मैसेज भेजने वाले नागेश का सुराग पुलिस को मिली. पुलिस ने बेंगलुरु में पड़ताल शुरू की 2 दिनों में पूजा कहां कहां पर गई किन लोगों से उन्होंने मुलाकात की और एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए किस तरह के ट्रांसपोर्ट का पूजा ने इस्तेमाल किया. इन सब की छानबीन की गई तो पता चला की 30 जुलाई को पूजा ने नागेश की कैब का इस्तेमाल किया था और जो मैसेज पूजा के फोन से 2 दिन बाद भेजा गया था. उसका लोकेशन और नागेश के घर का लोकेशन एक ही था, जिसके बाद पुलिस ने नागेश को गिरफ्तार कर लिया. 

पूछताछ में नागेश ने पुलिस को बताया कि लूटपाट के इरादे से उसने पूजा पर हमला किया था, लेकिन पूजा को वापस होश आ गया तो डर के मारे उसने पूजा का मर्डर कर दिया. हालांकि पुलिस इस बात की भी जांच कर रही है कि हत्या सिर्फ लूटपाट के इरादे से की गई है या फिर इसमें और कोई दूसरी वजह भी है. नागेश को फिलहाल 5 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है.