close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सैम पित्रोदा के बयान पर जनता और जवानों से माफी मांगें राहुल गांधी : अमित शाह

उन्‍होंने कांग्रेस पर हमला करते हुए यह भी कहा कि चुनाव के नजदीक आते ही कांग्रेस तुष्टिकरण की राजनीति शुरू कर देती है. 

सैम पित्रोदा के बयान पर जनता और जवानों से माफी मांगें राहुल गांधी : अमित शाह
अमित शाह ने साधा निशाना. फोटो ani

नई दिल्‍ली : ओवरसीज कांग्रेस के चेयरमैन सैम पित्रोदा की ओर से भारतीय वायुसेना की एयरस्‍ट्राइक पर उठाए गए सवालों पर बीजेपी ने एक बार फिर कांग्रेस को आड़े हाथ लिया. बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह ने शनिवार को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस करके साफ तौर पर कहा कि कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी को सैम पित्रोदा के इस बयान पर देश की जनता, शहीदों के परिवारों और जवानों से माफी मांगनी चाहिए. उन्‍होंने कांग्रेस पर हमला करते हुए यह भी कहा कि चुनाव के नजदीक आते ही कांग्रेस तुष्टिकरण की राजनीति शुरू कर देती है. 

अमित शाह ने कहा कि देश जब आम चुनाव की ओर तेजी से बढ़ रहा है औरदेश के मतदाताओं में राष्ट्र सुरक्षा का मुद्दा अहम बना हुआ है. ऐसे समय में जो कल कांग्रेस के विदेशी मामलों के प्रभारी सैम पित्रोदा का बयान आया, वह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्‍होंने सवाल किया कि क्या कांग्रेस पार्टी पुलवामा जैसे जघन्य हमले को जो देश की जनता को झकझोर कर रख देते हैं, उसको आप सामान्य घटना मानते हैं?

 

कांग्रेस पर हमला
उन्‍होंने कांग्रेस को घेरते हुए कहा कि कुछ लोगों की हरकतों से किसी देश को दोषी नहीं मानना चाहिए, क्या कांग्रेस पार्टी मानती है कि जो आतंकवादी घटनाएं होती हैं इसका पाकिस्तान से संबंध है या नहीं, इसको पहले स्पष्ट करो. अगर रिश्ता है तो दोषी कौन? आतंकवादी हमले का जवाब सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक से नहीं देना चाहिए, बातचीत से देना चाहिए, क्या ये कांग्रेस पार्टी की आतंकवाद को डील करने की नीति अधिकृत है क्या?

धर्म और मंदिरों से नौकरियां पैदा नहीं होंगी: सैम पित्रोदा

कांग्रेस बातचीत का रास्‍ता सुझाती है
शाह ने कहा कि जब देश में इस प्रकार के आतंकी हमले होते हैं, देश के नागरिक हताहत होते हैं, देश के जवान शहीद होते हैं और कांग्रेस पार्टी और उनके पदाधिकारी बातचीत का रास्ता सुझाते हैं, इससे कांग्रेंस पार्टी सहमत है क्या? उन्‍होंने कहा कि 7 मार्च को स्वयं कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि एयर स्ट्राइक पर जो सवाल उठे हैं, उसका जवाब मिलना चाहिए। राहुल गांधी किसके सवालों का जवाब चाहते हैं? भारतीय एयर फोर्स पर संदेह करना किसी भी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए सही नहीं है.

हमने जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई
अमित शाह ने कहा कि केंद्र में भाजपा सरकार बनने के बाद हमने आतंकवाद के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति को अपनाया है और हम डटकर आतंकवाद के खिलाफ खड़े हैं. यूपीए शासनकाल में कई बम धमाके देश भर में हुए और आपकी पालिसी की तहत बातचीत का रास्ता अपनाया और क्या परिणाम निकला? इसका भी जवाब कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष को देश की जनता के सामने देना चाहिए.

भाजपा ही इस देश को सुरक्षा दे सकती है
शाह ने कहा कि मोदी सरकार की कूटनीतिक सफलता का ही परिणाम है कि जब हमारे जवान सफल एयर स्ट्राइक करके वापस आये और पाकिस्तान ने दुनिया में कोहराम मचाना शुरू किया तो उस समय भी पूरी दुनिया भारत के साथ खड़ी थी और पाकिस्तान अलग थलग पड़ गया. बीजेपी अध्‍यक्ष ने कहा कि मैं देश की जनता को विश्वास दिलाता हूं कि भाजपा ही इस देश को सुरक्षा दे सकती है. आतंकवाद को मुंहतोड़ जवाब दे सकती है और पाकिस्तान की साजिशों को नाकाम कर सकती है.

पित्रोदा ने मांगे थे एयरस्‍ट्राइक के और सुबूत
बता दें कि कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी के करीबी नेता और ओवरसीज कांग्रेस के चेयरमैन सैम पित्रोदा ने पाकिस्‍तान के बालाकोट में की गई भारतीय वायुसेना की एयरस्‍ट्राइक पर सवाल उठाए हैं. उन्‍होंने कहा है, 'अगर उन्‍होंने (भारतीय वायुसेना) 300 आतंकी मारे हैं तो ठीक है. मैं बस इतना कहना चाहता हूं कि आप मुझे इसके और तथ्‍य मुहैया करा सकते हैं. इसे पुख्‍ता कर सकते हैं.' उन्‍होंने कहा है कि अंतरराष्‍ट्रीय मीडिया में इस एयरस्‍ट्राइक को लेकर दूसरा ही पक्ष है. भारत के लोगों को भारतीय वायुसेना की ओर से की गई इस कार्रवाई के तथ्‍य जानने का अधिकार है.

सैम पित्रोदा ने कहा है, 'मैं इस बारे में कुछ अधिक जानना चाहता हूं क्‍योंकि मैंने न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स समेत अन्‍य अखबारों में कुछ रिपोर्ट पढ़ी हैं. क्‍या हमने सच में हमला किया? क्‍या हमने सच में 300 आतंकियों को मारा? मैं यह नहीं जानता.' कांग्रेस नेता ने आगे कहा, 'एक नागरिक होने के कारण मुझे यह जानना का हक है और अगर मैं इसके बारे में पूछ रहा हूं तो इसका मतलब यह नहीं है कि राष्‍ट्रवादी नहीं हूं या इसका मतलब यह नहीं है कि मैं इस तरफ हूं या उस तरफ.'