close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहारः फसल बीमा भुगतान के लिए किसानों का हंगामा, अधिकारियों को बनाया बंधक

बेगूसराय में बैंकों द्वारा फसल बीमा की राशि का भुगतान नहीं करने से नाराज किसानों ने बैंक में तालाबंदी कर जमकर हंगामा किया.

बिहारः फसल बीमा भुगतान के लिए किसानों का हंगामा, अधिकारियों को बनाया बंधक
बेगूसराय में किसानों ने किया बैंक के बाहर प्रदर्शन.

राजीव/बेगूसरायः बिहार के बेगूसराय में बैंकों द्वारा फसल बीमा की राशि का भुगतान नहीं करने से नाराज किसानों ने बैंक में तालाबंदी कर जमकर हंगामा किया. किसान इस दौरान हाथ में किरासन तेल लेकर बैंक द्वारा भुगतान नहीं करने पर आत्मदाह करने की धमकी भी दी. बैंक में तालाबंदी व हंगामा की सूचना पर बैंक के बड़े अधिकारी मौके पर पहुंचे.

बेगूसराय जिले के रामदीरी गांव के किसान हाथ में किरासन तेल का डब्बा और माचिस लिए बैंक के सामने शुक्रवार को जमकर हंगामा किया. किसान एसबीआई रामदीरी शाखा में तालाबंदी कर फसल बीमा की राशि की भुगतान की मांग कर रहे थे. 

किसानों का आरोप है कि बैंक मैनेजर के मनमानी के कारण सैकड़ों किसानों के खाते को एनपीए में डाल दिया गया है. और जिस कारण 2017 के फसल बीमा की राशि का भुगतान नहीं किया जा रहा है. किसानों का आरोप है कि जिले के कई बैंकों के द्वारा किसानों को फसल बीमा की राशि दी गई है लेकिन रामदीरी  एस बी आई शाखा के प्रबंधक जानबूझकर किसानों को प्रताड़ित कर रहे हैं.

बताया जा रहा है कि 350 किसानों के खाते को एनपीए में डाल दिया गया जबकि 22 सौ किसानों का खाता है कुछ किसानों को बीमा राशि का भुगतान किया गया और अधिकतर किसानों को राशि नहीं दी जा रही है. किसानों ने कहा कि अगर भुगतान नहीं किया गया तो वे आत्महत्या करेंगे ही साथ ही बैंक अधिकारी को भी पकड़ कर साथ में आत्मदाह कर लेंगे.

बैंक में तालाबंदी और हंगामे की सूचना पर एसबीआई क्षेत्रीय शाखा के अधिकारी दौड़े दौड़े रामदीरी एसबीआई शाखा पहुंच किसानों को समझाने का प्रयास किया. लेकिन किसान बीमा राशि की भुगतान के संबंध में ठोस आश्वासन के बगैर मानने को तैयार नहीं थे. 

वहीं, किसानों ने क्षेत्रीय शाखा से पहुंचे अधिकारियों को भी बंधक बना लिया. जिसके बाद मटिहानी थाना पुलिस भी मौके पर पहुंची. बाद में क्षेत्रीय मुख्य शाखा प्रबंधक अनिल कुमार ने एक सप्ताह में किसानों से आवेदन लेकर नियम अनुसार भुगतान करने का आश्वासन दिया जिसके बाद किसान शांत हुए.