मोतिहारी पुलिस के हाथ लगी बड़ी सफलता, अंतरराष्ट्रीय शटर कटवा गिरोह के सरगना गिरफ्तार

पूछताछ में दोनों ने स्वीकार किया है कि उनपर भारत के विभिन्न राज्यों में लगभग 50 से अधिक मामले दर्ज हैं. साथ ही चादर गैंग के नाम से इनका गिरोह भी चलाता है.   

मोतिहारी पुलिस के हाथ लगी बड़ी सफलता, अंतरराष्ट्रीय शटर कटवा गिरोह के सरगना गिरफ्तार
अंतरराष्ट्रीय शटर कटवा गिरोह सरगना गिरफ्तार.

Motihari: मोतिहारी पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है. यहां भारत-नेपाल सीमावर्ती क्षेत्र के घोड़ासहन में रहने वाले कुख्यात शटर कटवा गिरोह के दो बदमाश समीर साह उर्फ चेलवा व सलमान साह उर्फ बेलवा को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार बदमाश शटर कटवा गिरोह के सरगना है. 

विभिन्न महानगरों में हैं 50 से अधिक मामले दर्ज
बता दें कि पंचायत चुनाव (Bihar Panchayat Chunav)  को लेकर सघन वाहन जांच के दौरान दोनों अपराधियों कि गिरफ्तारी हुई है. इन दोनों भाइयों पर भारत के विभिन्न महानगरों में 50 से अधिक मामले दर्ज हैं, जिसमें दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, छतीसगढ़, उत्तराखंड, रांची, कर्नाटक सहित कई राज्य शामिल हैं.

ये भी पढ़ें- मुजफ्फरपुर में बुजुर्ग बना रातों-रात करोड़पति, खाते में आए 52 करोड़ रुपये 

3 किलो मादक पदार्थ बरामद 
इधर, मामले की जानकारी देते हुए एसपी नवीन चंद्र झा ने बताया, 'सूचना मिली थी कि नेपाल से घोड़ाहसन के रास्ते कुछ अपराधी ढाका में प्रवेश करने वाले हैं. इसी क्रम में घोड़ासहन पुलिस ने घोड़ाहसन ढाका रोड पर वाहनों की जांच करना शुरू कर दिया. इस दौरान एक अपाची बाइक पर दो व्यक्ति को रोक उनकि तलाशी की गई. इन दोनों के पास से 3 किलो मादक पदार्थ बरामद किया गया. वहीं, दोनों से पूछताछ की गई तो पता चला कि दोनों शटर कटवा गिरोह के सरगना हैं.'

ऐसे देते थे चोरी को अंजाम
पूछताछ में दोनों ने स्वीकार किया है कि उनपर भारत के विभिन्न राज्यों में लगभग 50 से अधिक मामले दर्ज हैं. साथ ही चादर गैंग के नाम से इनका गिरोह भी चलाता है. अपराधियों ने बताया, 'गिरोह में 10 से अधिक लोग काम करते हैं. ये लोग मुख्य रूप से ऐसी दुकानों को अपना निशाना बनाते हैं, जिसमें महंगे मोबाइल और घड़ी हों. इसके लिए पहले उस दुकान की रेकी की जाती है फिर रात में दुकान बंद होने के बाद उसके शटर के पास चादर बिछाकर सो जाते हैं और देर रात्रि मौका मिलते ही रॉड के सहारे शटर का ताला तोड़कर दुकान में रखें सभी महंगे सामान चुरा ले जाते हैं.'

(इनपुट- पंकज)