हेमंत सोरेन से मिलकर CPI नेता बोले, कांग्रेस को छोड़नी होगी हजारीबाग सीट, वरना...

सीपीआई ने हजारीबाग सीट के लिए कांग्रेस को चेतावनी दी है.

हेमंत सोरेन से मिलकर CPI नेता बोले, कांग्रेस को छोड़नी होगी हजारीबाग सीट, वरना...
सीपीआई ने कांग्रेस को हजारीबाग सीट छोड़ने को कहा है. (प्रतीकात्मक फोटो)

रांचीः बिहार के साथ-साथ झारखंड में भी महागठबंधन में सीट शेयरिंग का फैसला नहीं हो पाया है. वहीं, जैसे बिहार में वामदलों को अनदेखी की जा रही है. वहीं, झारखंड में भी कुछ ऐसा ही रवैया वामदलों के लिए देखा जा रहा है. लेकिन सीपीआई ने कहा है कि अगर उन्हें सम्मानजनक सीट नहीं मिली तो वह इसके उलट अपना रास्ता खुद तय करेंगे. साथ ही हजारीबाग सीट नहीं मिलने पर अन्य सीटों पर भी चुनाव लड़ने की चेतावनी दी है.

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) के नेता और हजारीबाग से पूर्व सांसद रहे भुवनेश्वर मेहता बुधवार को सीट शेयरिंग के मुद्दे पर जेएमएम के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन से मुलाकात करने पहुंचे थे. हेमंत से मुलाकात के बाद सीपीआई नेता बताया कि उन्होंने सीटों को लेकर जेएमएम नेता से बात की है.

भुवनेश्वर मेहता ने बताया कि उन्होंने सीट शेयरिंग और हजारीबाग सीट के लिए जेएमएम नेता हेमंत सोरेन से मुलाकात करने आए थे. उन्होंने कहा हजारीबाग सीट सीपीआई की परंपरागत सीट है और बीजेपी को और किसी पार्टी ने नहीं हराया है. ऐसे में बीजेपी से लड़ने के लिए हजारीबाग सीट सीपीआई की दावेदारी प्रमुख हैं.

इसके साथ ही उन्होंने कांग्रेस को भी आड़े हाथों लिया. उन्होंने कांग्रेस के रवैये को लेकर चेतावनी तक दे दी. भुवनेश्वर मेहता ने कहा कि अगर कांग्रेस हजारीबाग लोकसभा सीट सीपीआई की खाते में नहीं आई तो अन्य लोकसभा सीटों पर भी वाममोर्चा चुनाव लड़ेगी.

आपको बता दें कि कांग्रेस ने हजारीबाग सीट को अपने खाते में लेने की बात कही है. वहीं, कांग्रेस की ओर से शिवलाल महतो ने हजारीबाग सीट से दावा ठोका है. हालांकि इस पर अभी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है. लेकिन सीपीआई ने साफ कहा है कि हजारीबाग उसकी परंपरागत सीट है इसलिए कांग्रेस को यह सीट छोड़ देनी चाहिए. इसी मामले में सीपीआई नेता ने हेमंत सोरेन से मुलाकात की.

वहीं, बिहार में भी सीपीआई को एक सीट देने की बात कही जा रही है. वहीं, लेफ्ट के किसी भी नेता को दिल्ली में हो रही महागठबंधन की बैठक में आमंत्रित नहीं किया है. जिस पर सीपीआई के राज्य सचिव सत्यनारायण ने कहा कि सीपीआई एक सीट पर कभी नहीं मानेगी. हमें सम्मानजनक सीट चाहिए. उनकी पार्टी ने बिहार में 6 सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी की है.