मुंगरे: DIG की कार्रवाई से भ्रष्ट अधिकारियों में मचा हड़कंप, 2 सिपाही गिरफ्तार

उन्होंने रिश्वत मांगने के आरोप में न सिर्फ अपने कार्यालय में कार्यरत मुंशी एवं सिपाही को पकड़वाकर कोतवाली थाना को सौंपा. बल्कि दोनों के खिलाफ कोतवाली थाना में प्राथमिकी दर्ज कराते हुए जेल भेजवा दिया. 

मुंगरे: DIG की कार्रवाई से भ्रष्ट अधिकारियों में मचा हड़कंप, 2 सिपाही गिरफ्तार
डीआईजी ने दो सिपाहियों को रिश्वत के आरोप में गिरफ्तार करवा दिया. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मुंगेर: डीआईजी की कार्रवाई से भ्रष्ट पुलिस पदाधिकारियों एवं जवानों में हड़कंप मच गया है. डीआईजी मनु महाराज ने अपने ही कार्ययालय में काम करने वाले दो सिपाहियों पर बड़ी कार्रवाई की है. उन्होंने रिश्वत मांगने के आरोप में न सिर्फ अपने कार्यालय में कार्यरत मुंशी एवं सिपाही को पकड़वाकर कोतवाली थाना को सौंपा. बल्कि दोनों के खिलाफ कोतवाली थाना में प्राथमिकी दर्ज कराते हुए जेल भेजवा दिया. डीआईजी के इस कार्रवाई से भ्रष्ट पुलिस पदाधिकारी एवं जवानों में हड़कंप मच गया है.

जानकारी के अनुसार, डीआईजी मनु महाराज के पास एक व्यक्ति आया और उसने कहा कि उनके कार्यालय में कार्यरत मुंशी और एक सिपाही मामले के निष्पादन कराने के नाम पर रिश्वत की मांग कर रहे है. इस मामले का निष्पादन डीआईजी द्वारा ही किया जाना था. व्यक्ति की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए डीआईजी ने गुप्त तरीके से मामले की जांच किया.

प्रथम दृष्टया जांच में मामला सत्य पाया गया. इसके बाद डीआईजी ने कोतवाली थाने की पुलिस को बुलाया और अपने ही कार्यालय में कार्यरत मुंशी कुणाल कुमार एवं सिपाही सुजीत कुमार को गिरफ्तार करने का निर्देश दिया. कोतवाली पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर थाने लाई. साथ ही मामला दर्ज कर न्यायालय में उपस्थापन के बाद जेल भेज दिया.

डीआईजी के इस निर्णय के बाद भ्रष्टाचार में संलिप्त पुलिसकर्मियों में हड़कंप मच गया है. बता दें कि इससे पहले भी शराब के नशे में धुत कई पुलिस कर्मियों को पकड़वाकर जेल भेजा था. जबकि कोतवाली थाना में चरित्र प्रमाण पत्र के नाम पर पैसा वसूली करते वीडियो वॉयरल होने पर एक दारोगा को जेल भेजवा दिया था.

डीआईजी मनु महाराज ने एक अपील भी जारी किया है. उन्होंने कहा कि अगर किसी भी प्रकार के कार्यालय कर्मी द्वारा रूपए की मांग की जाती है तो उसकी जानकारी व्हाट‍्सएप पर उन्हें दे. 

उन्होंने अपना मोबाइल नंबर 9431822965 जारी करते हुए उस पर सूचना देने को कहा है. ताकि ऐसे कर्मी को चिह्नित कर उस पर कार्रवाई की जाए. उन्होंने भ्रष्टाचार में संलिप्त पुलिस पदाधिकारियों एवं जवानों से भी अपील किया कि वे ऐसे काम से अपने को रोक ले, नहीं तो कानूनी कार्रवाई के साथ ही विभागीय कार्रवाई की जाएगी.