भाई वीरेंद्र को JDU का समर्थन, कहा- समता पार्टी में भी नहीं हुआ था ऐसा अपमान

भाई वीरेन्द्र पर तेजप्रताप के जुबानी हमले के बाद जेडीयू भाई वीरेन्द्र के पक्ष में आ खड़ी हुई है.

भाई वीरेंद्र को JDU का समर्थन, कहा- समता पार्टी में भी नहीं हुआ था ऐसा अपमान
अजय आलोक ने भाई वीरेंद्र का समर्थन किया है. (फाइल फोटो)

आशुतोष चंद्रा/पटनाः पाटलीपुत्र लोकसभा सीट के लिए आरजेडी में घमासान शुरु हो चुका है. तेजप्रताप यादव ने सीट पर चुनाव लडने की तैयारी कर रहे अपने ही पार्टी के विधायक भाई वीरेन्द्र को औकात में रहने की सलाह दे डाली है. मामले का दिलचस्प पहलू ये है कि जेडीयू भाई वीरेन्द्र के पक्ष मे खड़ी हो गई है. पार्टी के प्रवक्ता अजय आलोक ने ये कहकर सनसनी मचा दी है कि भाई वीरेन्द्र का अपमान तो समता पार्टी में भी नहीं होता था. ऐसे अपमान सहने से बेहतर आत्महत्या कर लेना है.

पाटलीपुत्र लोकसभा की सीट आरजेडी में घमासान की बड़ी वजह बनता जा रहा है. मीसा भारती इस सीट से चुनाव लड़ना चाहती हैं. पिछली बार भी मीसा इस सीट पर चुनाव लडीं थी और चुनाव हार गयी थीं. मीसा भारती इस बार भी ताल ठोक रही हैं. लेकिन पार्टी के मुख्य प्रवक्ता विधायक भाई वीरेन्द्र भी इसी सीट से चुनाव लडने की तैयारी कर रहे हैं. लेकिन तेजप्रताप यादव ने भाई वीरेन्द्र को औकात में रहने की बात कहकर सियासी गलियारे में हडकंप मचा दिया है. तेजप्रताप यादव ने अपने बहन मीसा भारती के पक्ष में गुरुवार से चुनाव प्रचार की शुरुआत भी की. लेकिन ये शुरुआत किसी और जगह से नहीं बल्कि भाई वीरेन्द्र के विधानसभा क्षेत्र मनेर से हुई.

भाई वीरेन्द्र पर तेजप्रताप के जुबानी हमले के बाद जेडीयू भाई वीरेन्द्र के पक्ष में आ खड़ी हुई है. पार्टी के प्रवक्ता अजय आलोक ने कहा कि भाई वीरेन्द्र समता पार्टी के समय में हमारे साथ थे. इतनी बेइज्जती तो उस वक्त भी उनकी नहीं हुई होगी. आज वो पार्टी के विधायक हैं मुख्य प्रवक्ता हैं और आज उनके लिए जिस तरह के शब्दों का इस्तेमाल किया जा रहा है वो बेहद ही गंभीर है. किसी पार्टी में सम्मानित पद पर रहते हुए इस तरह का अपमान सहने से बेहतर है आत्महत्या कर लेगा.

इधर बीजेपी ने भी आरजेडी में सत्ता को लेकर छिडी जंग पर जुबानी हमला बोला है . पार्टी के प्रवक्ता निखिल आनंद ने कहा है कि तेजप्रताप यादव जिनके खिलाफ चुनाव प्रचार अभियान में निकले हैं वो उन्हीं की पार्टी के विधायक हैं. लालू परिवार में कुछ भी ठीक नहीं चल रहा. कुंठित तेजप्रताप यादव क्या कर रहे हैं खुद उन्हें ही नहीं मालूम. 2019 चुनाव में एनडीए का बोलबाला रहेगा. भाई वीरेन्द्र के खिलाफ तेजप्रताप के खुले ऐलान के बाद आरजेडी ने चुप्पी साध ली है. 

कुल मिलाकर कहा जाय तो तेजप्रताप ने पाटलीपुत्र सीट को लेकर अपनी बहन के पक्ष में सियासी जंग का भी ऐलान कर दिया है. चर्चा इसबात की है कि तेजस्वी भाई वीरेन्द्र को पाटलीपुत्र लोकसभा सीट से चुनाव लडाना चाहते हैं. ऐसे में पाटलीपुत्र लोकसभा सीट को लेकर एकबार फिर लालू परिवार ही आमने सामने आता दिख रहा है. उपर से भाई वीरेन्द्र को जेडीयू का समर्थन क्या गुल खिलाएगा देखना दिलचस्प होगा.