दरभंगा: दो दिवसीय मिथिला लोक उत्सव का आज से आगाज, JDU विधायक करेंगे विरोध

दो दिवसीय मिथिला लोक उत्सव की आज से शुरुआत लहेरियासराय स्थित नेहरू स्टेडियम में होने जा रही है. सजाने का काम अंतिम दौर में चल रहा है. 

दरभंगा: दो दिवसीय मिथिला लोक उत्सव का आज से आगाज, JDU विधायक करेंगे विरोध
JDU विधायक करेंगे मिथिला लोक उत्सव करेंगे विरोध.

दरभंगा: दो दिवसीय मिथिला लोक उत्सव 2019 (Mithila Lok Utsav 2019) की आज से शुरुआत हो रही है. योजना विकास विभाग प्रभारी सह जिला प्रभारी मंत्री महेश्वर हजारी इसका उद्घाटन करेंगे. वहीं, जनता दल यूनाइटेड (JDU) विधायक अमरनाथ गामी मिथिला लोक उत्सव का विरोध करेंगे. डीएम के समक्ष आज वह धरना देंगे.

दो दिवसीय मिथिला लोक उत्सव की आज से शुरुआत लहेरियासराय स्थित नेहरू स्टेडियम में होने जा रही है. सजाने का काम अंतिम दौर में चल रहा है. वहीं, इवेंट कंपनी बॉबीज इंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड के जरिए आयोजन स्थल पर भव्य पंडाल और मंच का निर्माण करने के साथ ही प्रवेश द्वार से लेकर मंच तक को आकर्षक ढंग से बनाने की कवायद चल रही है.

बिहार सरकार के योजना विकास विभाग प्रभारी सह जिला प्रभारी मंत्री महेश्वर हजारी इसका उद्घाटन करेंगे. बिहार सरकार में जल संसाधन मंत्री मंत्री संजय झा, मदन सहनी  समेत कई विधायक और मंत्री इस समारोह में शामिल होंगे. 

मिथिला लोक उत्सव के नोडल पदाधिकारी उमाकांत पांडेय ने कहा कि कार्यक्रम स्थल पर मिथिला दलान का निर्माण कराया जा रहा है. जो मिथिला की कला और संस्कृति को दर्शाएगा. इस उत्सव के दौरान बाहरी कलाकारों में ममता जोशी, वंदना मिश्रा, वंदना सिन्हा, ऐश्वर्य निगम और श्लोका अपनी प्रस्तुति से लोगों का मनोरंजन करेंगे. वहीं, स्थानीय कलाकार मिथिला की प्रसिद्ध झिझिया और अन्य प्रस्तुति देंगे.

जेडीयू विधायक अमरनाथ गामी मिथिला लोक उत्सव का करेंगे विरोध, डीएम के समक्ष आज देंगे धरना. उन्होंने बाहरी कलाकारों को मिथिला लोक उत्सव में शामिल होने पर आपत्ति जताई है. उन्होंने इसे मैथिली भाषा और मिथिला की संस्कृति का अपमान बताते हुए इसे पैसों की लूट करार दिया है. सरकार से कार्रवाई की मांग करते हुए राशि रिकवर करने की मांग की है.

बता दें कि मिथिला लोक उत्सव का आयोजन आज से लहेरियासराय के नेहरू स्टेडियम में होने जा रहा है. बिहार सरकार का कला-संस्कृति विभाग और दरभंगा जिला प्रशासन संयुक्त रूप से हर साल यह आयोजन करता है. इसमें सांस्कृतिक कार्यक्रमों के अलावा कई प्रतियोगिताएं होती हैं और विभिन्न विभागों के स्टॉल लगाए जाते हैं.