झारखंड पहुंचा चमकी बुखार, लातेहार में एक बच्चे की मौत

परिजन सत्यम को रानी चिल्ड्रन हॉस्पिटल में भर्ती कराए, जहां दो घंटे के बाद इलाज के दौरान ही उसकी मौत हो गई. 

झारखंड पहुंचा चमकी बुखार, लातेहार में एक बच्चे की मौत
चमकी बुखार से एक बच्चे की मौत. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

लातेहार : बिहार में चमकी बुखार से अब तक 187 बच्चों की मौत के बाद अब इस बीमारी की चपेट में आने से झारखंड में एक बच्चे की मौत हो गई है. इस मौत के बाद से आम जनता घबरा गई है. जिला के बरियातू प्रखंड के करमा फूलसू गांव रहने वाले रंजीत कुमार सिंह के तीन वर्षीय बेटे सत्यम की मौत चमकी बुखार से हो गई.

सत्यम को तेज बुखार था. बुखार लगने की वजह से वह बेहोश हो गया. आनन-फानन में उसे बालूमाथ हॉस्पिटल लाया गया, जहां प्राथमिक इलाज के बाद रांची रेफर कर दिया.

परिजन सत्यम को रानी चिल्ड्रन हॉस्पिटल में भर्ती कराए, जहां दो घंटे के बाद इलाज के दौरान ही उसकी मौत हो गई. वहीं, मृतक के चाचा रंजीत कुमार सिंह ने बताया कि अचानक उसे तेज बुखार हुआ और वह तुरंत बेहोश हो गया. इस मामलें में बालूमाथ प्रखंड उपप्रमुख ने कहा है कि यह बीमारी पहले बिहार में थी, लेकिन अब हमरे लातेहार में आ चूकी है. इसको लेकर सरकार को और सजग होने की आवश्यक्ता है.

इस मामले पर बालूमाथ हॉस्पिटल प्रभारी अशोक ओड़िया ने बताया कि हॉस्पिटल में एक मरीज आया था जिसकी हालत काफी ख़राब थी. प्राथमिक इलाज के बाद रांची रेफर किया था. वहीं, इस मामले पर लातेहार सिविल सर्जन डॉ शिवपूजन शर्मा ने बताया कि इंसेफेलाइटिस के लक्षण दिखते ही मरीज को तुरंत तुरंत हॉस्पिटल लाया जाए. तभी इसका इलाज हो पाएगा. ज्ञात हो कि लातेहार हॉस्पिटल में इसकी जांच की व्यवस्था नहीं है. इस कारण प्राथमिक इलाज के बाद तुरंत रांची रिम्स रेफर किया जाता है.