बिहार: गया में NRC-CAA के विरोध में विरोध-प्रदर्शन, जमकर तोड़फोड़ और आगजनी

वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. रतन कुमार ने बताया कि वे अपनी पत्नी के साथ बाजार जा रहे थे. जैसे ही सिविल लाइन थाना क्षेत्र के राय काशीनाथ मोड़ के समीप पहुंचे कि सामने से सैकड़ों की संख्या में आ रहे मशाल जुलूस में शामिल लोगों ने उनके वाहन के शीशे को तोड़ दिए.

बिहार: गया में NRC-CAA के विरोध में विरोध-प्रदर्शन, जमकर तोड़फोड़ और आगजनी
गया में मुस्लिम संगठनों का एनआरसी के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन.

गया: एनआरसी (NRC) और नागरिकता संसोधन अधिनियम (CAA) के विरोध में सोमवार को विभिन्न मुस्लिम संगठनों के द्वारा शहर के गांधी मैदान के समीप देर शाम मशाल जुलूस निकाला गया. जुलूस में शामिल लोग सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. जुलूस जैसे ही राय काशीनाथ मोड़ के समीप पहुंचा कि वहां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आगमन को लेकर लगे पोस्टर को लोग फाड़ने लगे.

जनता दल यूनाइटेड (JDU) कार्यालय के समीप पार्टी के नेताओं के पोस्टर को लोगों ने फाड़ दिया. वहीं, कई जगहों पर जमकर आगजनी भी की. 

जुलूस जीबी रोड होते हुए केपी रोड पहुंचा, जहां कई वाहनों के शीशे तोड़ दिए गए. इस दौरान भय का माहौल व्याप्त हो गया. कई लोगों ने भय के कारण अपनी दुकानें बंद कर ली. सूचना मिलने के बाद कई थानों की पुलिस हरकत में आई और स्थिति को संभालने में जुट गई. देर रात तक स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई थी.

वहीं, वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. रतन कुमार ने बताया कि वे अपनी पत्नी के साथ बाजार जा रहे थे. जैसे ही सिविल लाइन थाना क्षेत्र के राय काशीनाथ मोड़ के समीप पहुंचे कि सामने से सैकड़ों की संख्या में आ रहे मशाल जुलूस में शामिल लोगों ने उनके वाहन के शीशे को तोड़ दिए. किसी तरह पत्नी के साथ जान बचाकर बगल के पेट्रोल पंप पर पहुंचे.

उन्होंने बताया कि पेट्रोल पंप के पास भी दो बच्चियां रो रही थीं. उनके पिता के स्कूटर को जुलूस में शामिल लोगों ने धक्का देकर गिरा दिया. डर के कारण वे लोग छुप गए. उन्होंने कहा कि कहीं से भी जुलूस में शामिल लोगों का इस तरह से व्यवहार शोभनीय नहीं है. जिला प्रशासन को भी इसकी तैयारी करनी चाहिए थी. किसी भी तरह का विरोध-प्रदर्शन शांतिपूर्ण होनी चाहिए. उन्होंने प्रशासन से कार्रवाई की मांग की.