FCI-रेलवे की भेंट चढ़ा सैकड़ों क्विंटल अनाज, विभाग ने मामूली नुकसान कहकर झाड़ा पल्ला

 गोपालगंज में एफसीआई यानी फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया और रेलवे की लापरवाही से करीब एक हजार बोरे में रखे सैकड़ो क्विंटल अनाज खराब हो गए हैं. 

FCI-रेलवे की भेंट चढ़ा सैकड़ों क्विंटल अनाज, विभाग ने मामूली नुकसान कहकर झाड़ा पल्ला
FCI-रेलवे की भेंट चढ़ा सैकड़ों क्विंटल अनाज (प्रतीकात्मक फोटो)

Gopalganj: गोपालगंज में एफसीआई यानी फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया और रेलवे की लापरवाही से करीब एक हजार बोरे में रखे सैकड़ो क्विंटल अनाज खराब हो गए हैं. एफसीआई के द्वारा आनन-फानन में बर्बाद हुए गेहूं को गोदाम में भेज दिया गया है. ये मामला मीरगंज के हथुआ रेलवे स्टेशन में हुआ है, जहां रैक प्वाइंट पर बारिश से बचाव की कोई व्यवस्था नहीं थी और सैकड़ों क्विंटल अनाज बारिश की भेंट चढ़ गए. 

एफसीआई के द्वारा पंजाब से 52 हजार बोरे में गेहूं मंगाया गया था. इस गेहूं की ढुलाई रेलवे के द्वारा की गई थी, लेकिन ढुलाई से पहले एफसीआई और रेलवे के द्वारा गेहूं के बोरे की ठीक से पैकिंग और व्यवस्थित तरीके से रखरखाव नहीं किया गया था.  जिसकी वजह से 42 बोगी में रखे करीब एक हजार से ज्यादा गेहूं के बोरे में रखे अनाज खराब हो गए.

एफसीआई के अधिकारी इसे ट्रांसपोर्टेशन लॉस बता रहे हैं और इसे अनाज की मामूली बर्बादी कह कर मामले से पल्ला झाड़ रहे हैं. हथुआ रेलवे स्टेशन पर मालगाड़ी में एफसीआई से गेहूं की ढुलाई की गई है. 42 बोगी में 52 हजार बोरे में पैक कर गेहूं मंगाए गए हैं और प्रत्येक बोगी में करीब 30 से 40 बोरा गेंहू पानी में पूरी तरह से भीग गए हैं. भींगने की वजह से गेहूं के दानें जम गए हैं.  

वहीं इस मामले को लेकर एफसीआई के सहायक मैनेजर हंसराज सिंह का कहना है कि महज 25 से 30 क्विंटल अनाज ही लॉस हुआ है और जितने भी गेहूं के बोरे पानी की वजह से भींग गए हैं, उन्हें सुखा कर दोबारा उपयोग में लाया जाएगा.

ये भी पढ़ें: बिहार में सिंगल यूज प्लास्टिक बैन, कोविड ड्यूटी में तैनात हेल्थ वर्कर्स को मिलेगा 1 माह का अतिरिक्त वेतन

हालांकि एफसीआई के एजी के द्वारा आलाधिकारियों को विभाग के द्वारा जो रिपोर्ट भेजी गई है उस रिपोर्ट के मुताबिक रेलवे के प्रत्येक बोगी में 15 से 25 बोरा अनाज को भींगा हुआ बताया गया है. इस हिसाब से ट्रेन की 42 बोगी में करीब एक हजार बोरी गेंहू पानी की वजह से भीग गए हैं. जिसके अंदर रखा अनाज खराब हो गया है.