close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रांचीः लालू यादव की सेहत सामान्य, वार्ड से शिफ्ट करने से डॉक्टरों ने किया इनकार

लालू यादव की सेहत पहले से सामान्य है. उन्हें वार्ड से कहीं और शिफ्ट नहीं किया जाएगा.

रांचीः लालू यादव की सेहत सामान्य, वार्ड से शिफ्ट करने से डॉक्टरों ने किया इनकार
लालू यादव का स्वास्थ्य पहले से सामान्य है. (फाइल फोटो)

रांचीः आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव को हाईकोर्ट ने जमानत देने से इनकार कर दिया है. उनकी जमानत याचिका को कोर्ट ने गुरुवार को खारिज कर दिया था. वहीं, अब उनकी सेहत के बारे में भी कहा जा रहा है कि वह सामन्य है. चार माह पहले जिस हाल में वह रिम्स अस्पताल में भर्ती हुए थे, उसमें काफी सुधार हुआ है. हालांकि कोर्ट से लालू यादव ने स्वास्थ्य का हवाला देकर जमानत की मांग की थी.

लालू यादव को जमानत नहीं मिल पाई लेकिन फिलहाल उनकी सेहत सामान्य है. लालू यादव डॉक्टरों के निर्देश के अनुसार धूप में बैठ रहे हैं, साथ ही नियमित रूप से टहल भी रहे हैं. वहीं, उन्हें तीसरे तल पर शिफ्ट करने की बात कही गई थी. लेकिन डॉक्टरों ने उन्हें शिफ्ट करने से इनकार कर दिया है.

हाल ही में खानपान की वजह से लालू यादव का शुगर लेवल काफी बढ़ गया था. जिसके बाद डॉक्टरों ने उनके इंसुलिन की मात्रा को बढ़ा दिया था. लेकिन अब उनकी हालत सामान्य है. शुगर लेवल, बीपी और इंफेक्शन लेवल भी सामान्य है. उनके सेहत के बारे में रिम्स के मेडिसिन विभाग के डॉक्टर उमेश प्रसाद ने दी.

डॉ उमेश प्रसाद ने बताया कि लालू यादव कई बीमारियों से ग्रसित हैं. लेकिन उनकी हालत में अब पहले से काफी सुधार हुआ है. उनके खानपान से शुगर लेवल में बढ़ोत्तरी हुई थी. लेकिन आवश्यक देखरेख और निर्देश के बाद उनका शुगर लेवल नियंत्रित है.

वहीं, लालू यादव को अस्पताल के पेइंग वार्ड के तीसरे तल पर शिफ्ट करने की बात कही गई थी. जेल प्रशासन द्वारा निरीक्षण करने के बाद यह फैसला लिया गया था. लेकिन फिलहाल इसे टाल दिया गया है. डॉक्टरों ने लालू यादव को शिफ्ट करने से इनकार किया है. उनका कहना है कि उनके स्वास्थ्य के हिसाब से दूसरी जगह शिफ्ट करना सही नहीं होगा.

डॉक्टर ने कहा है कि अगर वह तीसरे तल पर जाएंगे तो उनकी स्वास्थ्य मॉनिटरिंग में दिक्कत आ सकती है. वहीं, किसी विकट परिस्तिथि में उन्हें अन्य विभाग में इलाज के लिए ले जाने में परेशानी भी हो सकती है. इसलिए ऐसी स्थिति में उन्हें कहीं और शिफ्ट करना सही नहीं है.